Breaking News

जयपुर / दीपक पालीवाल कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल के लिए वालंटियर बने

दीपक पालीवाल कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल के लिए वालंटियर बने
sanjay paliwal July 16, 2020 10:40 AM IST

इस खबर में...

● दिमाग से नहीं तो शरीर से दिया योगदान- दीपक

● दीपक के फैसले के खिलाफ थी उनकी पत्नी

● तीसरे चरण में पहुंच चुकी है ऑक्सफोर्ड की संभावित वैक्सीन

● ट्रायल के दौरान होते हैं इतने खतरे

● दोस्तों ने किया राजी

● ट्रायल के लिए दीपक को नहीं मिले कोई पैसे

● इंजेक्शन लगने के दिन दीपक को आया बुखार

● ट्रायल में दीपक का हिस्सा हुआ पूरा

जयपुर। (आदित्य नारायण चोपड़ा...) जयपुर में जन्मे और फिलहाल लंदन में रह रहे दीपक पालीवाल, उन चंद लोगों में से एक हैं, जिन्होंने खुद ही वैक्सीन ट्रायल के लिए वॉलेंटियर किया है। कोरोना वैक्सीन जल्द से जल्द बने, ये पूरी दुनिया चाहती है। इसके प्रयास अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, भारत जैसे तमाम बड़े देश में चल रहे हैं। ये कोई नहीं जानता कि किस देश में सबसे पहले ये वैक्सीन तैयार होगा, पर हर वैक्सीन के बनने के पहले उसका ह्यूमन ट्रायल जरूरी होता है। भारत में कोरोना बेकाबू हो रहा है। यूं तो कोरोना वायरस को काबू करने के लिए कभी केरल मॉडल तो कभी भीलवाड़ा माडल की सराहना हो चुकी है लेकिन इनकी तुलना में मुम्बई की स्लम बस्ती धारावी की चुनौती बहुत बड़ी है। इस स्लम बस्ती में लाखों लोग रहते हैं, जिनके पास स्वस्थ जीवन जीने के लिए न्यूनतम बुनियादी सुविधायें भी नहीं हैं। यहां की झुग्गियों और कोठरियों में दस-दस लोग रहते हैं। यद्यपि कोरोना संकट के बीच भारत के लिए यह राहत भरी खबर है कि एशिया की सबसे बड़ी धारावी स्लम बस्ती में कोरोना वायरस के संक्रमण पर काबू पाने में सफलता हासिल कर ली है। 

● विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस मामले में धारावी की प्रशंसा

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस मामले में धारावी की प्रशंसा भी की है। ऐसी बस्ती जहां सोशल डिस्टेंसिंग जैसे उपाय की कल्पना भी मुश्किल है। इसलिए माना जा रहा था कि धारावी कोरोना विस्फोट का बड़ा केन्द्र बन सकता है और अगर ऐसा हुआ तो हालात बेकाबू हो जाएंगे लेकिन सरकार, स्थानीय प्रशासन और सामुदायिक सहयोग ने इस बस्ती को खतरे से निकाल लिया। यह इस बात का संदेश है कि भले ही हमारे पास संसाधन कम हों लेकिन सामुदायिक सहयोग से महामारी का प्रसार रोकना बहुत जरूरी है। दूसरी तरफ दिल्ली और मुम्बई में संक्रमण के नए मामलों में कमी के संकेत मिल रहे हैं लेकिन कर्नाटक और तेलंगाना में संक्रमण के नए मामलों में बढ़त दिखाई दे रही है। 

● लॉकडाउन में ढील मिली, वे कुछ ज्यादा ही लापरवाह हो गए

बीते कुछ दिनों में इन दोनों राज्यों के शहरों -बेंगलुरु और हैदराबाद में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आये हैं। गुजरात में भी कोरोना काबू में नहीं आ रहा। कोरोना एक राज्य में फ्लैट होता दिखाई देता है तो किसी अन्य राज्य में बढ़ने लगता है इसलिए कोरोना पर काबू पाने का हर माडल विफल साबित हो रहा है। भारत में सबसे बड़ी समस्या यह है कि लोगों को जैसे ही लॉकडाउन में ढील मिली, वे कुछ ज्यादा ही लापरवाह हो गए। अब देखा जा रहा है कि शहरी क्षेत्रों में लोग सतर्कता नहीं बरत रहे। जब लॉकडाउन शुरू हुआ था तो भारत में केवल 536 मामले थे, आज संक्रमित मरीजों की संख्या 9 लाख के करीब पहुंच गई है। कुल संक्रमण के मामले में भारत दुनिया का तीसरा देश बन चुका है।

● कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने के लिए खुद की जिन्दगी दाव पर

भारत कोरोना संक्रमण का हॉट स्पॉट बन चुका है। कई राज्यों को फिर से लॉकडाउन लगाना पड़ रहा है। पहले की तुलना में  टैस्टिंग अब ज्यादा हो रही है, इसलिए नए केस भी सामने आ रहे हैं। भारतीय अभी भी सबक लेने को तैयार नहीं। ऐसी विषम परिस्थितियों में एक ऐसा भारतीय भी है जिसने कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने के लिए खुद की जिन्दगी दाव पर लगा दी है। 42 वर्षीय भारतीय मूल के दीपक पालीवाल लन्दन में एक फार्मा कंपनी में कंसल्टैंट के तौर पर काम करते हैं। उनका परिवार जयपुर में रहता है। दीपक पालीवाल उन चंद लोगों में से हैं ​जो कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल के लिए वालंटियर बने हैं। अक्सर लोग एक कमजोर पल में लिए गए फैसले पर टिक नहीं पाते लेकिन दीपक अपने इस फैसले पर अडिग हैं। कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के लिए आक्सफोर्ड को एक हजार लोगों की जरूरत थी, जिसमें हर मूल के लोगों की जरूरत थी, अमेरिकी, अफ्रीकी और भारतीय मूल के लोगों की। उन्हें बताया गया कि इस वैक्सीन में 85 फीसदी कंपाउंड मेनिनजाइटिस वैक्सीन से मिलता-जुलता है। इससे व्यक्ति कोलेप्स भी कर सकता है, आर्गन फेलियर भी हो सकते हैं। बुखार, कंपकंपी भी हो सकती है। इसके बावजूद दीपक ह्यूमन ट्रायल के लिए तैयार हो गए। दीपक को ह्यूमन ट्रायल के लिए कोई पैसे नहीं दिए जाएंगे लेकिन इंश्योरैंस की व्यवस्था जरूर होती है। दीपक नहीं जानते कि ह्यूमन ट्रायल में वैक्सीन सफल होगी या नहीं लेकिन वह समाज के लिए कुछ करना चाहते थे। अब उन्हें रोज ई डायरी भरनी पड़ती है। अभी उन्हें दो बार इंजैक्शन दिए गए हैं। उन्हें बुखार भी हुआ। हर रोज उन्हें अस्पताल में डाक्टरों के साथ आधा घंटा बिताना पड़ता है। हालांकि दीपक की पत्नी और परिवार के लोग उनके फैसले से खुश नहीं है लेकिन मानव को बचाने के लिए उन्होंने खुद को दाव पर लगा दिया।कोरोना से जंग में उन्होंने अपने शरीर को इस्तेमाल की इजाजत दी। लंदन में रह कर दीपक ने पूरी दुनिया को बचाने के लिए खुद को योद्धा बना दिया लेकिन भारतीय अब भी कोई सतर्कता नहीं बरत रहे। बेवजह कारें लेकर सड़कों पर घूमना उनकी आदत है। आज भी सड़कों पर भीड़ देखी जा सकती है। शहरों की बस्तियों में, गलियों में लोग ​​बिना मास्क पहने खेलते नजर आते हैं। सार्वजनिक स्थानों पर, सब्जी मंडियों में कोई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा। सबसे बड़ी समस्या आबादी का घनत्व है। छोटे-छोटे घरों में परिवार रहते हैं। कोरोना की चुनौती काफी बड़ी है। जब तक लोग सामुदायिक सहयोग नहीं करेंगे तब तक महामारी पर काबू नहीं पाया जा सकता। मानव ही अपने समुदाय की रक्षा कर सकता है। इसके लिए उनके भीतर खुद को बचाने और दूसरों की जान बचाने की भावना होनी चाहिए। अगर लंदन में बैठे दीपक पालीवाल खुद को ह्यूमन ट्रायल के लिए पेश कर सकते हैं तो क्या भारतीय कोरोना से खुद को बचाने के लिए उपाय नहीं कर सकते। इसलिए लोगों को बचाव के सभी उपाय अपनाने होंगे। जब तक कोई वैक्सीन तैयार नहीं हो जाती तब तक समेकित प्रयासों से ही महामारी की प्रचंडता को कमजोर किया जा सकता है। इसलिए बेवजह घरों से बाहर नहीं निकलें और नियमों का पालन करें, स्वच्छता का ध्यान रखें, घरों को सैनेटाइज करें। एक न एक दिन तो कोरोना को हारना ही पड़ेगा।

● दीपक के फैसले के खिलाफ थी उनकी पत्नी

दीपक ने आगे कहा कि उन्हें 16 अप्रैल को इस बात का पता चला कि वो इस वैक्सीन के ट्रायल में बतौर वॉलेंटियर भाग ले सकते हैं। हालांकि, उनकी पत्नी उनके इस फैसले के खिलाफ थीं। दीपक ने कहा, "भारत में भी मैंने अपने परिवार वालों को कुछ नहीं बताया था क्योंकि वो मेरे इस फैसले का विरोध करते। इसलिए मैंने अपने करीबी दोस्तों को ही यह बात बताई थी।" 26 अप्रैल को दीपक जांच के लिए अस्पताल गए। जयपुर में जन्मे और फिलहाल लंदन में रह रहे दीपक पालीवाल, उन चंद लोगों में से एक हैं, जिन्होंने खुद ही वैक्सीन ट्रायल के लिए वॉलेंटियर किया है। कोरोना वैक्सीन जल्द से जल्द बने, ये पूरी दुनिया चाहती है। इसके प्रयास अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, भारत जैसे तमाम बड़े देश में चल रहे हैं। ये कोई नहीं जानता कि किस देश में सबसे पहले ये वैक्सीन तैयार होगा, पर हर वैक्सीन के बनने के पहले उसका ह्यूमन ट्रायल जरूरी होता है। 

● ट्रायल के लिए दीपक को नहीं मिले कोई पैसे

दीपक को इस ट्रायल में शामिल होने के लिए किसी तरह के पैसे नहीं दिए हैं, लेकिन उनका इंश्योरेंस किया गया है। जब दीपक से पूछा गया कि इतने खतरों के बावजूद ट्रायल के लिए राजी होने कितना मुश्किल था...इसके जवाब में उन्होंने कहा कि मैं नहीं जानता कि ये ट्रायल सफल भी होगा या नहीं, लेकिन मैं समाज के लिए कुछ करना चाहता था। बस इसलिए ये कर रहा हूं।

● इंजेक्शन लगने के दिन दीपक को आया बुखार

ट्रायल की प्रक्रिया के बारे में बताते हुए दीपक ने कहा कि उन्हें बाजू में इंजेक्शन दिया गया था। उस दिन उन्हें बुखार आया और कंपकंपी हुई। इसके अलावा इंजेक्शन लगने वाली जगह पर थोड़ी सूजन भी आई। डॉक्टरों ने बताया कि यह सामान्य बात है। इसके बाद 28 दिनों तक उन्हें प्रक्रिया के तहत रोजाना अपने शरीर के तापमान, वजन, ब्लड प्रेशर, इंजेक्शन के निशान आदि की जानकारी अस्पताल को देनी होता था।

● पालीवाल वाणी ब्यूरो-Sanjay Paliwal...✍️

🔹 Whatsapp पर हमारी खबरें पाने के लिए हमारे मोबाइल नंबर 9039752406 को सेव करके हमें नाम/पता/गांव अथवा/शहर की जानकारी व्हाट्सएप पर Update paliwalwani news लिखकर भेजें... 09977952406-09827052406

 

#

RELATED NEWS