Breaking News
39 साल की भाभीजी के पति को लोगों ने किया ट्रोल, तो झल्ला उठीं अभिनेत्री, बोलीं- दो तलाक हुए तो क्या, मैं भी तो... इंदौर के मिल मजदूरों के लिए खुशखबरी : 16 साल का इंतजार हुआ खत्म, इस दिन मिलेंगे 425 करोड़ रुपए Sam Bahadur movie Star Cast : ‘सैम बहादुर’ के लिए विक्की कौशल ने लिए करोड़ों, फातिमा सना शेख को मिली महज इतनी फीस काल भैरव जयंती विशेष : कब है काल भैरव जयंती?, जानें तिथि, महत्व, कैसे प्रकट हुआ भगवान शिव का ये रौद्र रूप, काल भैरव कथा 2024 राशिफल : बृहस्पति होंगे मार्गी, इन तीन राशियों के लिए जबरदस्त होगा नया साल, चमक उठेगी किस्मत
Friday, 01 December 2023

मध्य प्रदेश

ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर भाजपा में मची अंदरूनी कलह अब खुलकर सामने आने लगी

26 February 2023 11:19 PM Paliwalwani
सिंधिया,भाजपा,ज्योतिरादित्य,चुनाव,वहीं,खिलाडि़यों,सम्मान,प्रतिनिधि,भोपाल,विधानसभा,केन्द्रीय,मंत्री,अंदरूनी,खुलकर,सामने,infighting,bjp,regarding,jyotiraditya,scindia,come,fore

भोपाल :

मप्र में इस वर्ष विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। वहीं, भाजपा में केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर मची अंदरूनी कलह अब खुलकर सामने आने लगी है। गुना से भाजपा सांसद केपी यादव ने बगैर सिंधिया का नाम लिये बिना उन पर अभी तक का सबसे करारा हमला बोला है। केपी ने इशारों में सिंधिया को गद्दार तक कह डाला है। यह ही नहीं उन्होंने कहा है कि अगर रानी लक्ष्मीबाई के साथ कुछ लोगों ने गद्दारी नहीं की होती तो देश आज स्वतंत्रता की 75 वीं नहीं बल्कि 175वीं वर्षगाठ मना रहा होता।

दरअसल, केपी यादव गुना में आरएसएस के आनुषंगिक संगठन क्रीडा भारती खेल और खिलाडि़यों को समर्पित संस्थान के कार्यक्रम में पहुंचे थे। यहां वह खिलाडि़यों की माताओं के सम्मान और वीरमाता जीजा बाई सम्मान समारोह में भाग लेने आये थे।

कभी सिंधिया के प्रतिनिधि थे केपी यादव

गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में गुना-शिवपुरी सीट पर भाजपा के केपी यादव ने तब के कांग्रेसी ज्योतिरादित्य सिंधिया को करारी मात दी थी। हालांकि एक दौर था जब केपी यादव मूंगावली जिला पंचायत में सिंधिया के प्रतिनिधि हुआ करते थे।

केपी यादव ने थामा भाजपा का दामन

बात यह भी है कि केपी यादव ने मुंगावली सीट से 2018 में ज्योतिरादित्य सिंधिया से टिकट की मांग की थी। लेकिन कांग्रेस ने केपी की जगह बृजेंद्र यादव को अपना प्रत्याशी बनाया। इससे नाराज केपी यादव ने भाजपा का दामन थाम लिया और इसके बाद गुना से ही ज्योतिरादित्य सिंधिया को सवा लाख वोटों से हराकर इतिहास रच दिया। वहीं, इसके बाद तो सिंधिया ने भी भाजपा का दामन भी थाम लिया।

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News