अन्य ख़बरे

जिंदगी को नर्क बना देती है ऐसे व्यव्हार की महिलाएं, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति!

Pushplata
जिंदगी को नर्क बना देती है ऐसे व्यव्हार की महिलाएं, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति!
जिंदगी को नर्क बना देती है ऐसे व्यव्हार की महिलाएं, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति!

जिंदगी को नर्क बना देती है ऐसे व्यव्हार की महिलाएं, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति!

Chanakya Niti: आचार्य के नीति शास्त्र में बहुत सारी बातें बताई गई हैं. इसमें ये तक भी बताया गया है कि किस व्यक्ति का व्यवहार कैसा होना चाहिए। चाणक्य नीति में बताई गईं जितनी भी नीतियाँ हैं वे सभी जानकार आप जीवन में कभी किसी से धोका नहीं खा सकते ये बात तो शत-प्रतिशत बिल्कुल सच है। साथ ही आप जीवन में कितनी भी कठिन से कठिन मुश्किलें क्यों न हों, जीवन में कभी भी असहाय या निराश महसूस नहीं करेंगें। इसलिए आचार्य चाणक्य के द्वारा बताई गई अहम बातों को एक बार तो पढ़ना बहुत जरूरी है। ताकि जीवन में हताश-निराशा दूर हो जाए और जीवन जीने के सही मूल्यों को आप समझ पाएं।

आचार्य चाणक्य के द्वारा बताई गयीं बातों में से एक बात तो हम आप सभी को बताएंगें क्योकि ये न केवल आपकी बल्कि पूरे परिवार के जिंदगी का सवाल बन जाता है। ये तो आप भी जानते हैं कि हर पुरुष के जिंदगी में एक महिला का साथ जरूर है। जो उसके सुख-दुःख, खराब-अच्छा हर पहलू में उसके साथ देती है। वहीं, आचार्य चाणक्य ने महिलाओं को लेकर पुरुषों को सलाह दी है कि किस तरीकों की महिलाओं से पुरुषों को दूर रहना चाहिए। आचार्य कहते हैं कि यदि जीवन में एक सही महिला नहीं मिलती तो पूरा का पूरा जीवन नर्क हो जाता है।

झगड़ा करने वाली महिलाएं

आचार्य चाणक्य के अनुसार ऐसी औरतें जो दूसरों से कठोर ध्वनि में बात करती हैं और आपको देखते ही अपने स्वर बदल लेती हैं, ऐसी महिलाओं से बच के रहना के ही ठीक रहता है। ऐसी महिलाओं के साथ मेल रखते हैं तो ये आपकी जिंदगी बर्बाद कर सकती हैं। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि ऐसी औरतें स्वर्ग को भी नर्क बना देती हैं।

इस तरह की प्रवति की महिलाएं

आचार्य चाणक्य का ये कहना है कि दुष्ट प्रवति वाली महिलाएं होती हैं उस घर का स्वामी मृत्यु की स्थिति पर पहुंच जाता है। इस तरह की महिलाएं न ही खुद खुश रहती हैं और न ही दूसरों को रहने देती हैं। बात-बात में बुरा मान जाना, घर को विभाजित होने की धमकी देने लगना इनकी आदत बन जाती है और घर के स्वामी का मानसिक संतुलन बिगड़ता चला जाता है। इस तरह की महिलाएं कभी भी धोखा दे सकती हैं।

अपने आगे किसी की कही न मानना

आचार्य चाणक्य ने निति शास्त्र में कहा है कि व्यक्ति को कोई भी कार्य करने से पहले ये जान लेना चाहिए कि वे उस कार्य को करने में पूरी तरह से सक्षम भी है या नहीं। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि कुछ महिलाएं व्यवहार से ऐसी होती हैं कि वे अपने आगे किसी की बात सुनने या मानने को राजी नहीं होती है। इस तरह की महिलाएं जीवन भर कष्ट भोगती हैं।

 

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
GOOGLE
Latest News
Trending News