Latest News
      1. देशभर के 90 प्रतिशत अखबार होंगे बंद, लाखों अखबार कर्मी होंगे बेरोजगार-डीएवीपी का अंधा कानुन-अखबार बचाओ मंच      2. पालीवाल समाज भवन में 22 जुलाई से श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन-भव्य कलश यात्रा निकलेगी      3. आमेट सडक सुरक्षा के तहत जिला परिवहन अधिकारी ने बनाये 20 वाहनों के चालान      4. आमेट वीरवर पत्ता को नमन कर मनाया स्थापना दिवस      5. आमेट महाविद्यालय में हरित राजस्थान सप्ताह-प्रतियोगिता दक्षता कक्षाएँ 15 जुलाई से      6. महाकाल मंदिर में फर्जी पत्रकारों के प्रवेश पर पूरी तरह लगेगा प्रतिबंध- कलेक्टर

श्री रामचंद्र दवे... स्मृति शेष... ईश्वर की उत्कृष्ठ कलाकृति थे समाज महर्षी

Arvind Dave     Category: इंदौर     04 Sep 2016 10:05 AM

इंदौर श्री चारभुजानाथ मित्र मंड़ल के संयोजक श्री गोपाल कमलकांत दवे ने पालीवाल वाणी को बताया कि पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी इंदौर के वरिष्ठ समाजसेवी, पालीवाल समाज सामूहिक संस्कार सेवा समिति के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीरामचंद्र भीमाशंकर जी दवे -कमाण्डर- के व्यक्तित्व के पहलुओं से सभी अवगत हैं। उनकी संवेदनशील, सूझबूझ से भरा स्वभाव, जमीन से जुड़ा व्यक्तित्व निश्चित रूप से आप की नैतिकता,प्रमाणिकता एंव निष्ठा का प्रतीक है। श्री दवे समाज सेवा एवं चरित्रत्माओं की सेवा के पयार्य हर समय सेवा, समर्पण, छोटे-बड़े में किसी भी प्रकार का भेदभाव न रखते हुए हर समय समाज के प्रत्येक कार्य एवं प्रकृति में आपका योगदान सराहनीय रहा।
        मैं उस बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी समाज मनिषी समर्पित एवं लोकप्रिय समाजसेवी की स्मृतियों उनके सानिध्य में बिताये समय को याद करता हूं तो ऐसा लगता है कि भगवान द्वारा समाजसेवा, पीड़ित मानवता की सेवा के लिये भेजे गये थे। तभी तो हमेशा चेहरे पर मुस्कुराहट लिये सादा जीवन उच्चविचार का जीवन मंत्र अपने में समेटे हुए हर समय सहयोग के लिये तत्पर रहते। वाकई वे भगवान के भेजे दूत थे तभी तो अपने जीवन में आये तमाम संघर्ष करते हुए वे जरा भी विचलित नहीं हुए और उन्होंने अपना मुकाम पालिया तो वे अपनी आजीविका के साथ समाज की सेवा सहयोगी मित्रों और परिचितों के हितों की चिंताकी।इसी स्वभाव के कारण उनके चाहने वालों की गणना करना मुश्किल है।
       अपने कार्य में निमग्न रहते हुए सामाजिक कार्यों-सामूहिकता- से संपन्न कराने की योजना बनाते रहते थे। निश्चित ही कमाण्डर का व्यक्तित्व और कार्यक्षेत्र विराट था और चंद शब्दों एवं भावों से उनके बारे में बता पाने में असमर्थ हूं। ये तो उनके सहयोग, सानिध्य एवं दिये गये संबल का ताउम्र ऋणी और अहसानमंद रहूंगा। मेरे परिजनों एवं उनके सहयोगियों की ओर से विनम्र श्रद्धासुमन उनके चरणों में समर्पित।


आपका सिपाही
गोपाल कमललाल दवे
संयोजक चारभुजानाथ मित्र मंडल
09893518125