मध्य प्रदेश

Pandit Pradeep Mishra: अब कुबेरेश्वर धाम में नहीं मिलेगा रुद्राक्ष?, 'मेरा दिल दुखा है'- पंडित प्रदीप मिश्रा

Paliwalwani
Pandit Pradeep Mishra: अब कुबेरेश्वर धाम में नहीं मिलेगा रुद्राक्ष?, 'मेरा दिल दुखा है'- पंडित प्रदीप मिश्रा
Pandit Pradeep Mishra: अब कुबेरेश्वर धाम में नहीं मिलेगा रुद्राक्ष?, 'मेरा दिल दुखा है'- पंडित प्रदीप मिश्रा

मशहूर कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा और सीहोर का कुबेरेश्वर धाम हाल ही में काफी सुर्खियों में थे. इस बार हुए रुद्राक्ष महोत्सव में शामिल होने के लिए लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ कुबेरेश्वर धाम में उमड़ पड़ी थी. हालात ये थे कि धाम में जगह न बचने पर लोगों को जहां जगह मिली, वह वहीं पर बैठ गए. कुछ तो मैदान में ही साड़ी, चद्दर का बसेरा बनाकर सामान जमा लिया. इन अव्यवस्थाओं को देखकर मिश्रा ने कहा कि उनका मन अंदर से दुखी हो गया है. उन्होंने आगे होने वाले रुद्राक्ष महोत्सव में कई बदलावों का भी ऐलान किया है.

क्या हुआ था रुद्राक्ष महोत्सव में ?

महोत्सव की शुरुआत 16 फरवरी 2023 से हुई. 16 से 23 तारीख तक यहाँ कथा का भी आयोजन हुआ. महोत्सव में 24 लाख से ज्यादा रुद्राक्ष बाँटे जाने का लक्ष्य रखा गया था. जब अनुमान से ज्यादा लोग इकट्ठा होने लगे तो रुद्राक्ष बाँटने की शुरुआत एक दिन पहले ही कर दी गई थी. लेकिन भीड़ फिर भी काबू में नहीं आ पायी. कई लोग अपने परिजन से बिछड़ने के घंटों बाद भी नहीं मिल पा रहे थे. प्रशासन के सुझाव पर प्रदीप मिश्रा ने रुद्राक्ष बांटना बंद कर दिया था. आयोजन के दौरान 16 फरवरी को एक महिला की मौत भी हो गई थी.

शौचालय जाने के 20 रुपए वसूले

महोत्सव की अव्यवस्था की खबरें तो पहले से ही आ रही थी, लेकिन पंडित प्रदीप मिश्रा किसी भी गड़बड़ी को नकारते रहे. लेकिन अब उन्होंने रुद्राक्ष महोत्सव में हुई प्रशासन की विफलता को प्रत्यक्ष रूप से स्वीकार किया है. पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा कि इस बार जैसी अव्यवस्था और अराजकता देखी, वैसी कभी सोची नहीं थी. वे रुद्राक्ष महोत्सव के दौरान मची लूट से नाराज़ है. उन्होंने कहा की कोई पानी की बोतल 150 रुपये में बेच रहे हैं तो कई श्रद्धालुओं से खेत में जाने के 20-20 रुपए वसूल रहा था. पंडित मिश्रा ने कहा की उनके नाम पर हो रहे कारोबार की बात से वो चिंतित है. उन्होंने बताया की कुबेरेश्वर की मिट्टी उनकी तस्वीर लगाकर 250 रुपये में बेची जा रही हैं. बेचने वाले ये और कह रहे है की अगर इस मिट्टी से घर जाकर शिवलिंग बनाएंगे तो आपका कल्याण होगा. प्रदीप मिश्रा ने कहा कि अगर अगली कथा में कोई इस तरह का धंधा करते हुए पकड़ा गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. 

अगले रुद्राक्ष महोत्सव में होगे ये बदलाव

महोत्सव के समापन के मौके पर 22 फरवरी को पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा की अगले रुद्राक्ष महोत्सव पर आरओ के पानी, वॉशरूम और बड़े से बड़े टैंट की व्यवस्था कुबेरेश्वर धाम पर ही होगी. ये सारी व्यवस्थाएं नि:शुल्क होंगी. उन्होंने कहा कि अब रुद्राक्ष अप्रैल महीने से पूरे साल मिलेंगे.

 

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
GOOGLE
Latest News
Trending News