Latest News
      1. देशभर के 90 प्रतिशत अखबार होंगे बंद, लाखों अखबार कर्मी होंगे बेरोजगार-डीएवीपी का अंधा कानुन-अखबार बचाओ मंच      2. पालीवाल समाज भवन में 22 जुलाई से श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन-भव्य कलश यात्रा निकलेगी      3. आमेट सडक सुरक्षा के तहत जिला परिवहन अधिकारी ने बनाये 20 वाहनों के चालान      4. आमेट वीरवर पत्ता को नमन कर मनाया स्थापना दिवस      5. आमेट महाविद्यालय में हरित राजस्थान सप्ताह-प्रतियोगिता दक्षता कक्षाएँ 15 जुलाई से      6. महाकाल मंदिर में फर्जी पत्रकारों के प्रवेश पर पूरी तरह लगेगा प्रतिबंध- कलेक्टर

पूरे देश में लागू हो क्लिनिकल स्टेबलिशमेंट एक्ट

Davlai Paliwal     Category: राजसमन्द     09 Mar 2017 3:46 PM

राजसमंद। प्रबुद्ध नागरिक विचार मंच के समन्वयक एवं सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार दक ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं केन्द्रीय चिकित्सा मंत्री जे.पी. नढ्ढा को पत्र लिखकर देश में क्लिनिकल स्टेबलिशमेंट (रजिस्ट्रेशन एवं रेगुलेशन) एक्ट को प्रभावी ढंग से लागू करवाने का आग्रह किया। दक ने पत्र में लिखा कि पिछले दिनों एनपीपीए ने जिस तरह स्टेंट की कीमतों पर अंकुश लगाया वैसे ही सभी चिकित्सकीय सेवाओं एवं प्रयुक्त उपकरणों, शल्य चिकित्सा दरों का निर्धारण चिकित्सालय की बेड़ क्षमता के अनुसार किया जाना चाहिए जिससे चिकित्सालयों एवं चिकित्सकों की मनमर्जी रूकेगी। उन्होंने लिखा कि जब सरकार दूध, बिस्किट, दाल जैसी वस्तुओं की अधितम खुदरा एवं थोक मूल्यों का निर्धारण कर सकती है तो ऐसी सेवाओं में प्रभावी नियंत्रण करना समय की मांग है। दक ने लिखा कि उनके भाई सुशील कुमार दक का अहमदाबाद के साल चिकित्सालय के डॉ. अनिल जैन द्वारा लापरवाही पूर्वक ऑपरेशन किया गया एवं अनैतिक रूप से अधिक पैसा वसूला गया। यदि गुजरात में यह एक्ट प्रभावी तरीके से लागू होता तो उन्हें न्यायिक कार्यवाही हेतु इधर-उधर नहीं भटकना पड़ता। एक्ट के लागू होने पर बेलगाम निजी चिकितसालयों, नर्सिंग होम एवं लेबारेट्रीयों पर शिकजा इस अधिनियम के तहत कसा जा सकेगा एवं सरकारी नियंत्रण के दायरे में सही रूप में आ जाएंगे।