Latest News
      1. अंकित जोशी ने दिखाया अपना दमदार प्रदर्शन-भारत को मिला कांस्य पदक      2. आमेट में स्वचछ भारत मिशन के तहत स्वच्छता ट्रेनिंग कोर्स मोबाइल पर      3. पालीवाल समाज देवगढ़ की डिजिटल बेटी भावना पालीवाल की दिल्ली तक चर्चा      4. सर्व ब्राह्मण समाज इंदौर के समाजसेवी श्री अशोक अवस्थी को विभिन्न संगठनों ने दी श्रद्वाजंलि      5. विश्व हिन्दू परिषद सामाजिक समरसता अभियान-शैक्षणिक परिवेश को विकसित करना होगा : हेमराज सिंधल      6. पालीवाल समाज के वरिष्ठ समाजसेवी श्री धुलीराम पुरोहित पंचतत्व में विलीन-किया पौधारोपण

फागोत्सव पर निकली प्रभु की सवारी-श्रद्धालुओं ने उड़ाई गुलाल

Suresh Bhat     Category: राजसमन्द     09 Mar 2017 1:47 PM

कांकरोली। पृष्टिमार्गीय की तृतीय पीठ कांकरोली स्थित प्रभु श्रीद्वारिकाधीश के संग जिला मुख्यालय पर रविवार को आयोजित हुए फोगोत्सव में इस दौरान विट्ठल विलास बाग में उपस्थित श्रद्धालुओं ने रसिया गान का नाचते, गाते हुए गुलाल भरे माहौल में भरपुर आनंद उठाया। इससे पूर्व सवारी में सवारी में दोनों प्रभु लाडीलेश एवं प्रभु मदनमोहन ठाकुरजी को एक साथ सुखपाल में विराजित कर नगाड़ा निशान, छत्र छांगा, ध्वजा पताका, बैण्ड-बाजे के साथ मथुरा के रसिया गायक महिला पुरुष सहित नगर वासी रसिया गान करते हुए नाचते गाते गुलाल अबीर उड़ाते हुए चल रहे थे। वहीं प्रभु द्वारिकाधीश प्रभु की दुसरी छवीं को खुले सुखपाल में बिराजित किया। प्रभु को गोस्वामी नैमिष कुमार, संजीव कुमार महाराज अबीर गुलाल खेलते हुए नगर की परिक्रमा करवाई। वहीं मंदिर में ठाकुरजी के दर्शनों के लिए पहुंचे श्रद्धालुओं को प्रभु श्रीकृष्ण के चारों की स्वरूपों के अलौकिक दर्शन करने का अवसर प्राप्त हुआ।

250 साल बाद हुए ऐसा आयोजन

जिले में फागोत्सव एवं होली को लेकर करीब 250 साल बाद ऐसा आयोजन हुआ है। कांकरोली में 250 वर्ष बाद मनाए जा रहे फागोत्सव मनोरथ में 10 साल के बाद सूरत से प्रभुश्री मदनमोहन एवं प्रभुश्री लाडीलेश दोनों ठाकुरजी के आगमन पर प्रभु श्री द्वारिकाधीश मंदिर में ब्रज जैसी तैयारियां की गई।

गुलाल अबीर व फूलों से सनी सडक़ें

फागोत्सव पर निकली प्रभु की सवारी में श्रद्धालुओं द्वारा उड़ाई गई गुलाल एवं फुलों से शहर की पूरी सडक़े लाल रंग व फुलों से सराबोर हो गई। जहां-जहां से सवारी निकली लोगों ने प्रभु का गुलाल व फुलों से स्वागत किया। सवारी में उड़ाई गई गुलाल व फुलों से सडक़ों पर छा जाने से ऐसा लग रहा था मानों प्रभु के आगमन पर फुलों से सजी लाल रंग की चादर बिछाई गई हो।