Latest News
      1. विधिक सेवा सप्ताह का शुभारंभ पर कार्यक्रम आयोजित      2. अणुव्रत विश्व भारती की नवगठित निदेशक परिषद की बैठक सम्पन्न      3. भाजपा के वरिष्ठ नेता सत्तन ने इंदौर में दिया बयान-भाजपा में मचा भूचाल       4. पालीवाल समाज के तरुण व्यास पर हुआ प्राणघातक तलवार से हमला-पुलिस बचा रही है आरोपियों को      5. पालीवाल समाज ने अन्नकुट महोत्सव चारभुजा मंदिर परिसर में मनाया-उमड़ी भक्तों की भीड़      6. आज 24 श्रेणी पालीवाल समाज की प्रथम कब्बड्डी प्रतियोगिता

वैदिक संस्कार शिविर सम्पन्न

Sureh Bhat/Ayush Paliwal     Category: राजसमन्द     23 Jun 2015 (3:07 PM)

राजसमन्द। जिले के केलवा कस्बे में पिछले दस दिनो से चल रहे पौरोहित्य कर्मकाण्ड ज्योतिष संस्कृत आवासीय वैदिक संस्कार प्रशिक्षण श्ििवर का समापन सोमवार का हुआ। शिविर का आयोजन राजस्थान संस्कृत अकादमी जयपुर एवं संस्कृत विकास परिषद के संयुक्त तत्वाधान में श्री द्वारकेश वेदशाला कांकरोली द्वारा अम्बामाता मंदिर केलवा के सहयोग से आयोजित किया गया। श्री द्वारकेश वेदशाला के संचालक प. आचार्य अर्जुनकृष्ण पालीवाल ने बताया की दस दिवसीय आवासीय शिविर में एक सौ पचास से अधिक बटुको ने भाग लिया। शिविर में अग्रणी रहे बटुक गौरव जोशी, माहित पालीवाल, दीपक पालीवाल, रूद्रप्रिय पालीवाल, गोविंद पुरोहित, लक्ष्य पालीवाल को आयोजन समिति द्वारा पुरूस्कृत किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित अम्बालाल पालीवाल ने आज के भौतीक युग में भारतीय संस्कृती एवं वैदिक संस्कृति की महत्ता बताई। प्रशिक्षक शंकरलाल पालीवाल ने सोलह संस्कार के अन्तर्गत आचार्य एवं आचार्य दक्षिणा उपनयन का महत्व बताया। प्रशिक्षण के साथ व्यायाम एवं योग शारीरिक शिक्षक मनोहरलाल द्वारा प्रतिदिन योग प्रणायाम की उपयोगिता बताते हुए उभ्यास कराया गया। संस्कृत भारती के संगठन मंत्री राजेन्द्र शर्मा ने वेदों एवं संस्कृत की महत्वता के साथ योग प्राणायाम कि उपयोगिता के विषय में जानकारी दी।

फोटो- श्री द्वारकेश वेदशाला कांकरोली द्वारा आयोजित वैदिक संस्कार शिविर में भाग लेते बटुक।

Paliwal Menariya Samaj Gaurav