Latest News
      1. विधिक सेवा सप्ताह का शुभारंभ पर कार्यक्रम आयोजित      2. अणुव्रत विश्व भारती की नवगठित निदेशक परिषद की बैठक सम्पन्न      3. भाजपा के वरिष्ठ नेता सत्तन ने इंदौर में दिया बयान-भाजपा में मचा भूचाल       4. पालीवाल समाज के तरुण व्यास पर हुआ प्राणघातक तलवार से हमला-पुलिस बचा रही है आरोपियों को      5. पालीवाल समाज ने अन्नकुट महोत्सव चारभुजा मंदिर परिसर में मनाया-उमड़ी भक्तों की भीड़      6. आज 24 श्रेणी पालीवाल समाज की प्रथम कब्बड्डी प्रतियोगिता

सकारात्मक ढंग से सोचने वाला दु:खी नहीं बनता: मुनि

Suresh Bhat     Category: राजसमन्द     23 Dec 2016 (6:37 AM)

राजसमंद। भिक्षु बोधि स्थल में मुनि जतनमल स्वामी के सान्निध्य में  आयोजित धर्मसभा को संबोधित करते हुए मुनिआनन्द कुमार ने कहा कि अपने सुख-दुख कर्ता व्यक्ति स्वयं है। बहुत सारे लोग कठिनाईयां या प्रतिकूल परिस्थिति आने पर भगवान को भी गालियां देना शुरू कर देते है और रो-रोकर अपने दु:खों को और अधिक बढ़ा लेते है। वास्तव में कोई भी व्यक्ति दु:खी बनता है तो किसी परिस्थिति के कारण नहीं, बल्कि अपने विचार के कारण, अपनी आदतों, अपनी ईच्छाओं और अपने ही व्यवहार के कारण दु:खी बनता है। सकारात्मक ढंग से सोचने वाला व्यक्ति विपरीत परिस्थितियों में भी कभी दु:खी नहीं बनता। थोड़ी सहनशीलता रखी जाए और भाषा को संयमित रखा जा सकता है। पानी की तरह शब्दों को भी छानकर काम में लेना चाहिए। इस अवसर पर अनेक श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित थे।
न्यूज सर्विस

Paliwal Menariya Samaj Gaurav