Latest News
      1. मेनारिया समाज में अन्नकूट महोत्सव आज      2. युवा ब्रह्मशक्ति का राष्ट्रीय अधिवेशन ब्रह्मोत्सव उदयपुर में संपन्न      3. खो-खो में चार बालिकाओं का विश्व विद्यालय की टीम में चयन      4. मंत्री किरण माहेश्वरी ने किया ग्रामीण क्षैत्रों में सघन जनसम्पर्क      5. निर्वाचन से जुड़ी मशीनरी प्रोएक्टिव होकर करें चुनावी कामकाज का सम्पादन: मारुत त्रिपाठी      6. कांग्रेस द्वारा प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी नहीं होने पर जिले में दावेदारों की बढ़ी धडक़ने

सजेंगे गजानन, गूजेंगे यजुर्वेदी मंत्र

Mahaveer Vays     Category: राजसमन्द     03 Sep 2016 (12:05 PM)

बिनोल। गणेशोत्सव के तहत सोमवार को चारभुजा मित्र मंडल की ओर से गणपति की विशेष झांकी सजाई जाएगी। इस मौके पर यजुर्वेदी मंत्रोच्चार के साथ विधिवत पूजा अर्चना और देर शाम आध्यात्मिक स्वर के साथ स्थानीय गायक आध्यात्मिक रंग बिखेरेंगे। मित्र मंडल की ओर से हर वर्ष यह आयोजन किया जाता है। इस बार आयोजन को भव्य रूप देने के लिए पिछले एक माह से तैयारियां चल रही है। खास तौर इस बार सजावट के साथ वैदिक पूजन और अनुष्ठानों की धूम रहेगी। तीन दिवसीय इस महोत्सव के दौरान हर वर्ष झांकी देखने के लिए आसपास के गांवों के लोग भी आते है। श्रद्धालुओं के लिए विशेष व्यवस्था भी की गई है। बिनोल मित्र मंडल की ओर से बताया कि प्रतिदिन गणेश आह्वान, गणेश अथर्वशीष का पाठ, गणपति वंदना, गणेश स्त्रोत के अलावा आरती के बाद पुष्पाजंलि भी मंत्रोच्चार के साथ की जाएगी। मंगलवार को भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा। बुधवार को महाआरती के साथ भव्य शोभायात्रा के साथ प्रतिमा का विर्सजन किया जाएगा।

आइये आपको बताते हैं गणेश चतुर्थी की पूजा के समय और मुहूर्त के बारे में..

ऐसा माना जाता है कि गणपति जी का जन्म मध्यकाल में हुआ था इसलिए उनकी स्थापना इसी काल में होनी चाहिए। काशी के पंडित दिवाकर शास्त्री के मुताबिक इस बार चतुर्थी वाले दिन काफी अच्छे संयोग बन रहे हैं। रविवार को ही चतुर्थी शाम 6 बजकर 54 मिनट से लग जायेगी जो कि 5 सितंबर को रात 9 बजकर 10 मिनट पर समाप्त होगी।

बप्पा की पूजा और स्थापना

इस कारण आप सोमवार को सुबह से लेकर रात 21:10 के बीच में बप्पा की पूजा और स्थापना कर सकते है। वैसे पूजा का सबसे अच्छा वक्त सोमवार को दिन के 11 बजे से लेकर दोपहर के 1 बजकर 38 मिनट तक का है।

10 दिन तक गणेश उत्सव

मालूम हो कि भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से लेकर अनंत चतुर्दशी के 10 दिन तक गणेश उत्सव मनाया जाता है। विघ्नहर्ता की दिल से पूजा करने से इंसान को सुख, शांति और समृद्धि प्राप्त होती है और मुसीबतों से छुटकारा मिलता है।

www.paliwalwani.com

Mahaveer Vays

Paliwal Menariya Samaj Gaurav