Latest News
      1. श्री भुपेश पुरोहित का दुःखद निधन-अंतिम यात्रा आज       2. पालीवाल समाज 24 खेङा ने किया तीन दिवसीय गंगा प्रसादी महोत्सव का समापन      3. पालीवाल समाज 24 खेङा ने किया तीन दिवसीय गंगा प्रसादी महोत्सव का समापन      4. पालीवाल समाज 24 खेङा ने किया तीन दिवसीय गंगा प्रसादी महोत्सव का समापन      5. अन्नकूट महोत्सव एवं छप्पन भोग दर्शन कल-आज सुंदर काण्ड का आयोजन      6. श्री श्यामसुंदर नागदा का निधन-अंतिम यात्रा आज

राखी के त्योहार को लेकर बाजार में रही रौनक

Suresh Bhat/Ayush Paliwal     Category: राजसमन्द     18 Aug 2016 (2:51 PM)

राजसमंद। जिला मुख्यालय पर बुधवार को रक्षाबंधन को लेकर दिनभर शहर के बाजार में खरीदारी का जोर रहा। गांव-कस्बों से कई लोग परिवार के साथ त्यौहार की खरीददारी करने पहुंचे। त्योहार को लेकर शहर के प्रमुख बाजार में मिठाई, राखियों तथा नारियल के स्टॉल लगाए गए हैं। दुकानदारों ने ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए राखियों में तरह-तरह की वेरायटियां उपलब्ध करवाई हैं। शहर में चौपाटी, रामधुन गली, नया बाजार, पुराना बस स्टैंड के पास मुख्य रोड पर मिठाई सहित राखियों के स्टॉल दुकानों के बाहर सजे हैं। सुबह से शाम तक गांव-कस्बों की महिलाएं तथा युवतियां राखी खरीदने पहुंची। भाइयों की कलाई पर बांधने के लिए डोरी, डिजाइनर राखियां खरीदी। इधर भाइयों ने भी बहन को देने के लिए साड़ी, ज्वैलरी आइटम आदि की खरीददारी की। खरीददारी का दौर देर शाम तक चला। इस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों से भी बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने मुख्यालय पहुंच जमकर खरीददारी की। महिलाओं ने विशेष उत्साह के बावजूद कीमतों में बढ़ोतरी के चलते सीमित राखियाँ खरीदीं। नगर के बाजारों नया बाजार, सर्राफा बाजार, रामधुन गली में हर ओर लोगों का जमावड़ा रहा। मुख्यालय के मुख्य मार्गों पर प्रशासन द्वारा उत्सव पूर्व तैयारियां नहीं करने के चलते दिन-भर कई जगहों पर यातायात व्यवस्था भी अव्यवस्थित दिखाई दी। वहीं राज्य सरकार के आदेशानुसार राखी के दिन महिलाए रोड़वेज में नि:शुल्क यात्रा कर सकेगी।

फैंसी राखियों की ज्यादा मांग

इस बार मार्केट में डिजाइनर राखियां पसंद की जा रही है। विक्रेताओं ने बच्चों को लुभाने के लिए डिजाइनर और मिकी माउस, बाल गणेशा, ओम आकृति वाली राखियां मंगवाई है। स्टोन, डायमंड, मोती फैंसी राखियों की मांग भी ज्यादा है। बेबी डॉल से लेकर एंग्री बॉय, डोरेमोन, छोटा भीम, बेन टेन, शक्तिमान, वोडाफोन के प्लास्टिक मॉडल वाली राखियां मार्केट में आई है। राखी के गिफ्ट पैक में इलेक्ट्रॉनिक टॉय रिवाल्वर भी शामिल है। शहर में पांच रुपए से लेकर एक हजार रुपए तक की राखियां उपलब्ध है। पारंपरिक पैटर्न वाली गोट किनारी स्टोन सजी कलकत्ती राखी भी नए डिजायन में मार्केट में उपलब्ध है। फैशनेबल डिजाइन में हाथ पान, चूड़ा पान, बाजूबंद और जरदोजी वर्क वाली इन राखियों का लुक देखते ही बनता है। इस बार बाजार में राखियां कई वैरायटी में उपलब्ध है।

15 से 20 प्रतिशत बढ़ी कीमतें

रक्षाबंधन उत्सव पर खरीददारी करने आए लोगों ने राखियों की कीमतों में 15 से 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी के चलते इस बार सीमित राखियां ही खरीदीं। इस बार बाजारों में राखियों की बढ़ती कीमतों को देख ग्राहकों का राखियां खरीदने के लिए पूर्व नियोजित बजट गड़बड़ा गया। गत वर्ष की तुलना में करीब 20 प्रतिशत कीमतों में बढ़ोतरी हुई।

इस बार रक्षाबंधन पर भद्रा नहींए दिनभर बांध सकेंगे राखी

रक्षाबंधन पर भद्रा का साया नहीं होने से दिनभर राखी बांधी जा सकेगी। तीन साल बाद सूर्योदय से लेकर 2:15 बजे तक राखी बांधने का श्रेष्ठ समय है। सविता ज्योतिष केन्द्र के आचार्य अर्जुनकृष्ण पालीवाल ने बताया कि भद्रा का साया इस बार सूर्योदय से पहले समाप्त हो रहा है। अल सबह सुबह 6:11 बजे से 7:48 बजे तक रक्षासूत्र बांधा जा सकता है। इसी तरह सुबह 11:01 बजे से अपराह्न 3:52 बजे तक (चल, लाभ, अमृत) दोपहर 12:12 से 1:04 बजे तक अभिजित मुहूर्त और शाम 5:28 बजे से रात 9:52 बजे तक (शुभ, अमृत, लाभ) भी राखी बांधने का शुभ मुहूर्त है।
फोटो राज पी एच 1 राजसमंद। राखी के पूर्व दिन अपने भाई के लिए राखी की खरीददारी करतीं बहनें। फोटो - सुरेश भाट

Paliwal Menariya Samaj Gaurav