Latest News
      1. सर्व ब्राह्मण समाज इंदौर के समाजसेवी श्री अशोक अवस्थी को विभिन्न संगठनों ने दी श्रद्वाजंलि      2. विश्व हिन्दू परिषद सामाजिक समरसता अभियान-शैक्षणिक परिवेश को विकसित करना होगा : हेमराज सिंधल      3. पालीवाल समाज के वरिष्ठ समाजसेवी श्री धुलीराम पुरोहित पंचतत्व में विलीन-किया पौधारोपण      4. पालीवाल ब्राह्मण समाज की समाजसेविका श्रीमती मोहनी बाई पालीवाल का निधन-आत्मीय श्रद्वाजंलि अर्पित      5. आमेट मगरा विकास योजना में बनी दुकानों की हुई नीलामी      6. सर्व ब्राह्मण समाज का निःशुल्क युवक-युवती परिचय सम्मेलन इंदौर में होगा

बनास नदी अवैध बजरी खनन के विरोध में कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा

Suresh Bhat     Category: राजसमन्द     07 Jul 2016 9:48 AM

राजसमंद (राज.)। समीपवर्ती ग्राम पंचायत भाटोली के ग्रामीणों द्वारा गांव से सटी बनास नदी में हो रहे अवैध बजरी खनन के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग को लेकर जिला कलेक्टर अर्चना सिंह को ज्ञापन सौंपा गया। जिस पर जिला कलेक्टर ने आवश्यक कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। ग्रामीणों ने बताया कि बनास नदी में गांव की सीमा पर बजरी दौहन में कुल चार जेसीबी चल रही है। जिसमें से केवल एक ठेकेदार के पास ही लीज के कागजात मिले। बाकि की तीन जेसीबी अवैध रूप से बजरी दौहन कार्य में चल रही है। उन्होंने बताया कि नियम के मुताबिक नदी में खोदे गए खड्डों का वापस समतलीकरण करना होता है परन्तु ठेकेदार द्वारा समतलीकरण भी नहीं किया जा रहा है। ठेकेदार को पुछने पर उसने बताया कि हमें सरकार द्वारा भूमिगत जलस्तर तक खोदने का ऑर्डर मिला है। जबकि नियम के मुताबिक तीन मीटर तक ही खनन किया जा सकता है। उप सरपंच लीलाधर देराश्री ने बताया कि बजरी परिवहन करने वाले एक ट्रेक्टर में तीन ट्रोलियों जितनी बजरी का परिवहन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि ठेकेदार द्वारा अवैध रूप से नदी में 15 ट्रोली जितनी बजरी का भण्डारण कर रखा है। लेकिन खनन विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जा रही हैं। इस क्रम में ग्रामीणों की ओर से बुधवार को खनन विभाग अभियंता को भी ज्ञापन दिया गया था जिस पर अभियंता ने मौके पर ही जांच के लिए दो निरीक्षक भेजने की बात कही परन्तु मौके पर रात तक कोई नहीं आया। दूसरी ओर ओवरलोड ट्रेक्टरों की वजह से गांव की मुख्य सड़क भी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। ग्रामीणों ने कहा कि अगर प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जाएगी तो वे इसके खिलाफ आंदोलन करेंगे।