Latest News
      1. विधिक सेवा सप्ताह का शुभारंभ पर कार्यक्रम आयोजित      2. अणुव्रत विश्व भारती की नवगठित निदेशक परिषद की बैठक सम्पन्न      3. भाजपा के वरिष्ठ नेता सत्तन ने इंदौर में दिया बयान-भाजपा में मचा भूचाल       4. पालीवाल समाज के तरुण व्यास पर हुआ प्राणघातक तलवार से हमला-पुलिस बचा रही है आरोपियों को      5. पालीवाल समाज ने अन्नकुट महोत्सव चारभुजा मंदिर परिसर में मनाया-उमड़ी भक्तों की भीड़      6. आज 24 श्रेणी पालीवाल समाज की प्रथम कब्बड्डी प्रतियोगिता

गणपति महोत्सव में सजी काव्य निशा

Suresh Bhat/Ayush Paliwal     Category: राजसमन्द     23 Sep 2015 (5:07 PM)

राजसमंद। जिला मुख्यालय के जलचक्की चौराहे पर जेसी ग्रुप की ओर से आयोजित नो दिवसीय गणपति महोत्सव के अन्तर्गत मंगलवार को अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन में देर तक श्रोता काव्यपाठ सुनने जमे रहे। रंगीन रोशनी से लकदक गणपति के पाण्डाल में आयोजित कवि सम्मेलन की शुरूआत उज्जैन से आई कवयित्री शबाना शबनम ने मां शारदे की वन्दना से की। प्रारम्भ में कवि सम्पत सुरीला ने एक चर्चा यहां पर हर सुबह शाम हो जाए-देश मेरा किसी मन्दिर सा पावन धाम हो जाए.... की प्रस्तुति के साथ ही हास्य की चुटकियों से लोगों को गुदगुदाने का प्रयास किया। सुरीला ने हास्य की अनेक पैरोडिय़ां पेश कर श्रोताओं को हंसाया। जेसी गु्रप द्वारा आयोजित काव्य निशा के हीरो एवं लाफ्टर विजेता सुरेश अलबेला ने दर्शको को का ईंतजार खत्म करते हुए अपनी रचना पैश कर उपस्थित अपार जनसमुह को हंसी के गुब्बारे पैश कर गदगद कर दिया। अलबेला ने धरती का वक्ष चीर-चीर धीरता बनी, रोता मंयक सूर्य ऐसी वीरता बनी, मेवाड़ की धरा को आसमान कर दिया पन्ना ने अपना पुत्र बलिदान करने वाली शौर्य गाथा रचना प्रस्तुत कर देश प्रेम का संदेश दिया। इसके बाद शाजापुर मध्यप्रदेश से आए हास्य कलाकार दिनेश देशी घी ने जहां विभिन्न समसामयिक घटनाओं व प्रासंगिक विषयों पर हास्य से भरपूर टिप्पणियां कर श्रोताओं को लोटपोट किया वहीं बरवान करू क्या भारत मॉ का, हिन्दु मुस्लिम, सिख, ईसाई सबको आंचल में पाला है.... ...रचना पेश की जिसे खूब सराहा। मावली निवासी युवा कवि मनोज गुर्जर ने जमी पर पांव ना हो फिर बुलंदी व्यर्थ है पाना, दिया जन्म जिस मॉ ने उसे तुम भुल मत जाना... एवं देश में राजनेताओं द्वारा किया जा रहा कृत्य को कविताओं के माध्यम से बताया तो पुरा सदन तालियों से गुंज ऊठा। उदयपुर के ओजस्वी कवि सिद्धार्थ देवल हर कुनबे की शोर्य कथा हर घर में एक विजेता है... हर कंकड़ जिसका शंकर है में उस मेवाड़ में रहता हूं वाली रचना प्रस्तुत कर शहीदों की शहादत का स्मरण कराया। काव्य निशा में उज्जैन की कवयित्री शबाना शबनम ने वक्त की मांग है अब हौश में आऔ लोगों-पहले इंसान जरा बनकर दिखाओं लोगों....पेश कर वाहवाही बटोरी। इसी कड़ी में कार्यक्रम का संचालन करते हुए स्थानिय कवि प. सुनील व्यास मेरी हर स्वास राष्ट्र के नाम हो बस राष्ट्र प्रेम ही मेरा पैगाम हो... रचना प्रस्तुत कर देश प्रेम का संदेश दिया। कार्यक्रम से पूर्व आगंतुक कवियोंं का ग्रुप सदस्यों द्वारा उपरणा ओढ़ाकर सम्मान किया गया। कार्यक्रम में अशोक टांक, पूर्व पालिकाध्यक्ष अशोक रांका, लच्छुभाई, हीरालाल माली, राकेश प्रजापत, देशबन्धु रांका, कुलदीप शर्मा, ललीत खींची, नरेन्द्रसिंह, राजु गुर्जर, विनोद मेवाड़ा, राजकुमार बैरवा, देवराजसिंह चारण, प्रभुसिंह, अविनाश गौरवा, घनश्याम माली, सुनील वैष्णव सहीत कई कार्यकर्ता एवं दर्शक मौजुद थे।

सांसकृतिक संध्या आज

जल चक्की पर जेसी ग्रुप द्वारा आयोजित नो दिवसीय गणपती महोत्सव के तहत गुरूवार को रात्री कार्यक्रम के दौरान सांसकृतिक संध्या का आयोजन किया जायेगा। ग्रुप संयोजक रमेश मेवाड़ा एवं गु्रप अध्यक्ष अशोक टांक ने बताया की कार्यक्रम में स्थानिय कलाकरो के साथ बाहरी एवं बाल कलाकारो द्वारा मनमोहक प्रस्तुतियां दी जायेगी। कार्यक्रम की शुरूआत रात्री 8 बजे होगी जो देर रात तक चलती रहेगी।

फोटो- जेसी ग्रुप द्वारा आयोजित कवि सम्मेलन में काव्य पाठ करते लाफ्टर चेलेंज विजेता सुरेश अलबेला व कवि सुनील व्यास।

Paliwal Menariya Samaj Gaurav