Latest News
      1. विधिक सेवा सप्ताह का शुभारंभ पर कार्यक्रम आयोजित      2. अणुव्रत विश्व भारती की नवगठित निदेशक परिषद की बैठक सम्पन्न      3. भाजपा के वरिष्ठ नेता सत्तन ने इंदौर में दिया बयान-भाजपा में मचा भूचाल       4. पालीवाल समाज के तरुण व्यास पर हुआ प्राणघातक तलवार से हमला-पुलिस बचा रही है आरोपियों को      5. पालीवाल समाज ने अन्नकुट महोत्सव चारभुजा मंदिर परिसर में मनाया-उमड़ी भक्तों की भीड़      6. आज 24 श्रेणी पालीवाल समाज की प्रथम कब्बड्डी प्रतियोगिता

सीआई हेमन्तकुमार कोहली की मौत से शहर में फैली शोक की लहर

suresh bhat      Category: राजसमन्द     02 Jul 2017 (7:27 PM)

राजसमन्द। हंसमुख और मिलनसार नव पदोन्नत सीआई हेमन्तकुमार कोहली नहीं रहे। उनकी गुरुवार सुबह पुलिस ट्रेनिंग सेन्टर जयपुर में दौड़ के दौरान अचानक हुए हृदयघात से मौत हो गई। उदयपुर में ट्रेफिक कार्यालय में पद स्थापित कोहली की मौत की खबर पहुंचते ही जिले सहित प्रदेशभर पुलिस महकमे व उनके मित्रों में शोक की लहर छा गई। सब इंस्पेक्टर पद पर राजकीय सेवा में आए मूलत: भीलवाड़ा निवासी हेमन्त कोहली की अभी हाल ही में सीआई पद पर पदोन्नत हुए। ट्रेनिंग के लिए वे पिछले कुछ समय से जयपुर में ही थे। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि गुरुवार को ट्रेनिंग का अंतिम दिन था। सुबह वह ट्रेनिंग स्कूल जयपुर में साथियों के साथ दौड़ लगा रहे थे तभी अचानक चक्कर आने पर गिर पड़े। साथी उन्हें उठा कर अस्पताल ले गए। तब तक रास्ते में ही उन्होनें दम तोड़ दिया। चिकित्सकों ने मौत का कारण हृदयघात बताया है। कोली की निधन की खबर सुनते ही किसी को एका एक विश्वास नहीं हुआ। कोली के निधन पर पूर्व पालिकाध्यक्ष अशोक रांका, सभापति सुरेश पालीवाल, नेताप्रतिपक्ष अशोक टांक, रमेश मेवाड़ा, विनोद मेवाड़ा, पियुष दोशी, चुन्नीलाल पंचोली, उपसभापति अर्जुन मेवाड़ा, पार्षद हेमंत रजक, रोहित पंचोली, कुशलेन्द्र दाधीच, युवा क्रिकेटर प्रेमसिंह चौहान खटामला, संदीप पालीवाल, अंकित पालीवाल, भाजयुमो के जगदीश पालीवाल, अरविंद जैन, भंवरलाल कुमावत ने संवेदना व्यक्त करते हुए शोक प्रकट किया।

किसी को नहीं हो रहा विश्वास

राजकीय सेवा में आने के बाद कोहली ने अपनी अधिकांश सेवाएं उदयपुर व राजसमन्द जिले में बतौर यातायात विभाग में दी। उन्हें कभी भी थानों पर पोस्टिंग का मोह नहीं रहा। उदयपुर यातायात सेवा में रहने के दौरान उन्हें हर व्यक्ति जानता था। गृहमंत्री व अन्य वीआईपी की ड्यूटी के दौरान एस्कोर्ट व बतौर यातायात प्रभारी के दौरान कोली ही आगे या पीछे होते थे। शरीर से पतले दुबले व महज 45 किलो वजनी कोली की ह्दयाघात से मौत का पुलिस महकमे के साथ ही शहरवासियों को भी विश्वास नहीं हो पा रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कोली तीन भाईयों में सबसे छोटे थे। मां-बाप की मृत्यु के बाद तीनों ही भाई सरकारी सेवा में आए। इनके दो बड़े भाईयों में से एक डॉक्टर है तो एक सार्वजनिक विभाग में है।

फोटो - हेंमत कोली - 

suresh bhat
आपकी बेहतर खबरों के लिए मेल किजिए...
E-mail.paliwalwani2@gmail.com
09977952406,09827052406
पालीवाल वाणी की खबर रोज अपटेड
पालीवाल वाणी हर कदम...आपके साथ...

Paliwal Menariya Samaj Gaurav