Breaking News

राजस्थान / पंडित श्री जितेन्द्र मेनारिया के मुखारविंद से नानीबाई कथा में श्रद्वालु झूमें

पंडित श्री जितेन्द्र मेनारिया के मुखारविंद से नानीबाई कथा में श्रद्वालु झूमें
Shyam Menaria, Mukesh Paliwal...✍️ January 06, 2019

छोटीसादड़ी। नानीबाई का मायरा का 5 दिवसीय कथा का आयोजन दिनांक 4 से 8 जनवरी 2018 तक मेनारिया ब्राह्मण के प्रसिद्व गोवत्स प्रेमी पंडित श्री जितेन्द्र मेनारिया (खेरमालिया) राजस्थन वालों के मुखारविंद से दोपहर 11.30 से 3 बजे तक छोटी सादड़ी के खेरमालिया, राजस्थान में आयोजन चल रहा है।

पंडित मेनारिया भक्त द्वारा कलियुग में भगवान नाम का स्मरण करना ही मोक्ष का प्रथम द्वार है। भगवान नृसिंह भक्त की तपस्या से प्रसन्न होकर कष्ट दूर कर देते थे, जो आज भी आदर्श है। नानीबाई के विवाह में श्रीकृष्ण ने 56 करोड़ का मायरा भरकर आर्थिक संकट गरीबी में भी भक्त की प्रतिष्ठा बचाई और संसार को भक्ति के प्रति विश्वास की प्रेरणा दी। आज के आधुनिक युग में भी शिक्षाप्रद है। यह बात पंडित श्री जितेन्द्र मेनारिया पांच दिवसीय नानीबाई का मायरा की अमृत ज्ञान गंगा की कथा के प्रथम दिवस पर कही। इसके पूर्व कलश-पौथी यात्रा बैंडबाजों के साथ मुख्य मार्गों से निकलते हुए कथा पंडाल पहुंची। इस दौरान धार्मिक भजनों श्रद्धालु झूम उठे। आयोजक ने नानीबाई का मायरा कथा में सभी भक्तगणों को सादर आमंत्रित किया है।

🔹 कथा के दुसरे दिन भीड़ उमड़ी

paliwalwani.com

पंडित श्री जितेन्द्र मेनारिया (खेरमालिया) के मुखारविंद से कहा कि वर्तमान में लोग प्रभु को केवल अपना कार्य पूरा कराने के लिए याद करते हैं। अपना कार्य पूरा होते ही प्रभु को भूल जाते हैं। भक्ति बिना स्वार्थ की होनी चाहिए। निस्वार्थ भक्ति से ही प्रभु की प्राप्ति संभव है। उसकी मर्जी के बिना एक पत्ता भी नहीं हिलता है। कथा के दुसरे दिन भक्तगणों की काफी संख्या में भीड़ उमड़ी।

paliwalwani.com

paliwalwani.com

पालीवाल वाणी ब्यूरो-श्याम मेनारिया, मुकेश पालीवाल...✍️
🔹 Paliwalwani News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
www.fb.com/paliwalwani
www.twitter.com/paliwalwani
Sunil Paliwal-Indore M.P.
Email- paliwalwani2@gmail.com
09977952406-09827052406-Whatsapp no- 09039752406
पालीवाल वाणी हर कदम... आपके साथ...
*एक पेड़...एक बेटी...बचाने का संकल्प लिजिए...*

RELATED NEWS