Latest News
      1. श्री खूबीलाल पुरोहित के नवनिर्मित भवन पर श्री सांवरिया रामायण मंड़ल करेगा 26 जून को सुंदरकांड का पाठ      2. चारभुजानाथ भक्त मंडल ने किया ऐतिहासिक यात्रा मिलन समारोह का आयोजन      3. सीकर में आर्टिकल 15 के विरोध में उतरा ब्राह्मण समाज-उग्र आंदोलन होगा      4. सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस में प्रवेश लेने वाले छात्रों की फीस राज्य सरकार भरेगी      5. पालीवाल समाज की समाजसेविका श्रीमती जमनाबाई दवे का इंदौर में निधन      6. आईडाणा की बेटी फैमिना मिश इंडिया सुमन राव का 26 को होगा भव्य स्वागत

प्रसिद्ध भागवताचार्य श्री कन्हैया लाल जी पालीवाल ने गौशाला को राशि भेंट किये जाने पर आभार

Madhusudan paliwal     Category: राजस्थान     04 Oct 2016 10:56 AM

नोखा (राज.)। संतोषी चैक सत्संग समिति, नोखा द्वारा आयोजित विशाल श्रीमद् भागवत कथा का वाचन प्रसिद्ध भागवताचार्य श्री कन्हैया लाल जी पालीवाल प्रभु प्रेमी जी महाराज ने 19 से 25 सितम्बर तक का आयोजन किया। पालीवाल वाणी संवाददात ने बताया कि इस दौरान श्रीमद् भागवत कथा में विख्यात उद्योगपति भामाशाह भंवर, नरसी, पूनम कुलरिया ने संत श्री दुलाराम जी कुलरिया फाउंडेशन, मुलवास की तरफ से एक लाख रूपये की राशि प्रभु प्रेमी जी महाराज को गौ सेवार्थ भेंट की थी। इस राशि को प्रभु प्रेमी जी महाराज ने देशनोक की करणी गौ शाला को 21000, नाथूसर की गौशाला को 21000, कंवलीसर की गोवर्धन गोशाला को 21000, मुकाम गोशाला को 21000, कंवलीसर की अस्थाई गौशाला को 11000, रोड़ा की अस्थाई गौशाला को 11000, लाखोटिया बास गौशाला को 7500, पुलिस थाना की गौशाला को 7500 रूपये प्रभु प्रेमी जी महाराज ने भेंट किये। इस कथा से प्रभु प्रेमी जी की प्रेरणा से कुल 254000( दो लाख चोपन्न हजार ) रूपये भेंट किये गए है। इस दौरान कई समाजसेवियों को सम्मानित कर उनका सम्मान किया।

सरकार से गौ माता को राष्ट्रीय माता का दर्जा दिलाए जाने की मांग

श्रीमद् भागवत कथा का वाचन प्रसिद्ध भागवताचार्य श्री कन्हैया लाल जी पालीवाल प्रभु प्रेमी जी महाराज ने भगवत् कथा के दौरान सभी जगह गौशाला को राशि भेंट कर गौशाला की रक्षा करने का संकल्प लेते है। वही भारत सरकार से गौ माता को राष्ट्रीय माता का दर्जा दिलाए जाने की मांग भी निरंतर करते रहते है। जो अपने आप में एक महान कार्य है। गौमाता की रक्षा करने का संकल्प प्रत्येक भारतीय को होना चाहिए।

पालीवाल वाणी ब्यूरो