Latest News
      1. पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल जी को दी श्रद्धांजलि      2. श्री नरेन्द्र बागोरा को मंत्री श्री रामपाल सिंह ने श्रेष्ठ कर्मचारी से किया पुरस्कृत       3. मेनारिया समाज ने मचाई स्वतंत्रता दिवस की धूम      4. पालीवाल समाज ने किया प्रतिभाओं का सम्मान-स्वतंत्रता दिवस पर दी शुभकामनाएं      5. पालीवाल ब्राह्मण समाज 24 श्रेणी इंदौर ने मनाया आजादी का जश्न      6. उदयपुर में मची आजादी की धूम-कई प्रतिभाओं को मिला सम्मान
मेवाड़ उदयपुर राजघराने के महाराजकुमार विश्वराज सिहं का अभिनंन्दन कर राजपरिवार के प्रति आभार प्रकट किया - Paliwalwani.com

मेवाड़ उदयपुर राजघराने के महाराजकुमार विश्वराज सिहं का अभिनंन्दन कर राजपरिवार के प्रति आभार प्रकट किया

Manish paliwal     Category: राजस्थान     06 Jul 2016 (4:18 PM)

मुबंई । राजस्थान की ख्यात नाम रियासत रहे मेवाड़ उदयपुर राजघराने के वर्तमान प्रिसं (महाराजकुमार ) विश्वराज सिहं मेवाड़, आज उदयपुर मे आयोजन एक आयोजन के दोहरान आम जनता के बिच पहुचे ओर लोगो से मुलाकात की ।  गजेन्द्र सिहं राजावत (भिटवाड़ा) के अनुसार हर वर्ष की भातीं इस वर्ष भी महाराजकुमार विश्वराज सिहं मेवाड़, राज्य की प्राचीन पंरपरा की शान रहै, जगदिश मंदिर के रथयात्रा आयोजन मे सम्मिलित हुए,। इस अवसर पर रथयात्रा आयोजको ने उनका भावभीना अभिनंन्दन कर राजपरिवार के प्रति आभार प्रकट किया, पुजारी मंडल ने मंञोचार के साथ उनको प्रसाद भेटं किया । मेवाड़ राजवंश के वर्तमान महाराणा महेन्द्र सिंह मेवाड़, के पुत्र व मेवाड़ राज परिवार के अगले उतराधिकारी विश्वराज सिहं को देखने भारी संख्या मे लोग उमड़ पड़े।

       अचकन के राजशाही परिवेश पहने, हाथो मे तलवार थामे मेवाड़ी पाग पहन राजवंश की पुरी शानो शोकत के साथ आयोजन मे शरीर हुए, प्रिसं का वा वर्ग मे खास केज देखा गया, इस दोहरान लोगो ने प्रिसं के साथ फोटो भी खिचवाएं। प्रिसं जगदीश मंदिर से रथ याञा के साथ अस्थल मंदिर तक याञा के साथ आम आदमी के रूप मे पैदल चले व भगवान के प्रति अपनी आस्था का इजरार किया ।रथ याञा का आयोजन करने वाले जगदिश मंदिर का निर्माण विश्वराज सिह के पूर्वज महाराणा जगतसिंह ने सन् 1652 ई. में करवाया था। इस दोहरान प्रिसं के साथ राजपरिवार के प्रति समर्पित रहने वाले,विक्रमादित्य सिहं ताणा,कुलदीप सिहं ताल, कमल, मनु धाभई, कमल धाभई ,निर्मल, राजेन्द्र भाई प्रथ्वि सिहं,रणविंद भंड़ारी, भोज राज पालीवाल, राकेश पारेख, शैलेंद्र सनाढय , भगवान सिंह राठोड़ पाटीया, फतह सिहं राठोड़, सहीत सेकड़ो लोग विशेष रूप से मोजुद रहे थे,

Paliwal Menariya Samaj Gaurav