Latest News
      1. श्री खूबीलाल पुरोहित के नवनिर्मित भवन पर श्री सांवरिया रामायण मंड़ल करेगा 26 जून को सुंदरकांड का पाठ      2. चारभुजानाथ भक्त मंडल ने किया ऐतिहासिक यात्रा मिलन समारोह का आयोजन      3. सीकर में आर्टिकल 15 के विरोध में उतरा ब्राह्मण समाज-उग्र आंदोलन होगा      4. सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस में प्रवेश लेने वाले छात्रों की फीस राज्य सरकार भरेगी      5. पालीवाल समाज की समाजसेविका श्रीमती जमनाबाई दवे का इंदौर में निधन      6. आईडाणा की बेटी फैमिना मिश इंडिया सुमन राव का 26 को होगा भव्य स्वागत

मेवाड़ शिक्षित युवा संघर्ष समिति की बैठक सम्पन्न

Suresh Bhat     Category: राजस्थान     30 May 2016 10:46 AM

राजसमंद। उपनगर क्षेत्र धोइन्दा के परशुराम चौराहा पर स्थित शिव बजरंग व्यायामशाला पर मेवाड़ शिक्षित युवा संघर्ष समिति की जिला कार्य समिति की बैठक अध्यक्ष जगदीश पालीवाल (जावद) की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें युवाहितों को लेकर विचार-विमर्श किया गया। अध्यक्ष जगदीश पालीवाल ने राज्य सरकार से अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) एक बार फिर से आयोजित करने के बाद ही तृतीय श्रेणी अध्यापक भर्ती निकाले जाने की मांग की गई। पालीवाल ने मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे सिंधिया एवं शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी को भेजे पत्र में अनुरोध किया कि रीट-2015 में प्रश्न पत्र का स्तर पूर्व में हुई आरटेट के मुकाबले काफी कठिन था व 32 प्रश्नों को निरस्त करने से प्रस्तावित पन्द्रह हजार तृतीय श्रैणी शिक्षक भर्ती में लाखों अभ्यर्थियों को इसमें नुकसान होने की संभावना है इस पर समिति ने मांग की है कि पूर्व की भांति आरपीएसी की तर्ज पर एक ही परीक्षा करवाकर उसी आधार पर वरीयता बनाकर नियुक्ति दी जाए। भर्ती के लिए अलग पात्रता परीक्षा के आधार पर वरीयता बनाकर नियुक्ति देना अनुचित है। फिर से शिक्षक भर्ती एक ही परीक्षा हो और एक भर्ती के लिए आधार भी एक ही परीक्षा को माना जाए। इस रीट का परीक्षा परिणाम काफी कम भी रहा जिससे लाखों युवाओं को नुकसान हो रहा है। इसे एक बार फिर से आयोजित करने की मांग की गई। बैठक में विशाल ओझा, सत्यनारायण पालीवाल, विनोद गारू, लोकेश मीणा, बंशीलाल सालवी, धीरज जोशी, निर्मल पालीवाल, जितेन्द्र पालीवाल, हेमराज कुमावत, शैतान सिंह, फतहलाल कुमावत, किरण श्रीमाली, प्रियंका पालीवाल, जसवंत पालीवाल सहित अनेक युवा बेरोजगार उपस्थिति थे।