दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के नियमितीकरण में पदों के सृजन, वेतन वृद्धि व आरक्षण का ध्यान रखा जाये-श्री अरूण यादव - Paliwalwani

दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के नियमितीकरण में पदों के सृजन, वेतन वृद्धि व आरक्षण का ध्यान रखा जाये-श्री अरूण यादव

Paliwalwani Newspaper

भोपाल। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अरूण यादव ने प्रदेश की राज्य सरकार द्वारा दैनिक वेतन भोग कर्मचारियों को नियमित करने की घोषणा को लेकर राज्य सरकार से आग्रह है कि इन दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के नियमितीकरण में पदों के सृजन, वेतन वृद्धि व आरक्षण का ध्यान रखा जाये। श्री यादव ने आगे कहा कि साथ ही दिव्यांगों, गर्भवती महिलाओं व अनुकंपा नियुक्ति पाने वालों को भी इस योजना का सीधा लाभ दिया जाये। श्री यादव ने मुख्यमंत्री द्वाराप्रदेश के 48 हजार दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को नियमित किये जाने के संदर्भ में यह बात कही।

स्थायी सांख्येत्तर पदों की तरह यह लाभान्वित होंगे अथवा नई नियामवली होगी

श्री यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने वर्ष 2003 के अपने चुनाव घोषणा पत्र से यह मुद्दा प्रमुखता से उठाया था, किन्तु सरकार ने सत्ता में आने के बाद इस मुद्दे को ठंडे बस्ते में डाल दिया। लगातार भ्रम की स्थिति बनाये रखने वाले प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान ने गत् दिनों इन्हें नियमित करने की घोषणा तो कर दी, किन्तु यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि अन्य स्थायी कर्मचारियों की भांति सांख्येत्तर पदों की तरह यह लाभान्वित होंगे या फिर सरकार इनके लिए अलग से कोई नियमावली बनायेगी।

दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के लिए सरकार ने क्या पैमाना तैयार !

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश की शिवराज सरकार ने इन तथ्यों से अब तक पर्दा नहीं उठाया है कि इन दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के लिए सरकार ने क्या पैमाना तैयार किया है ! क्या वेतन वृद्धि के लिए कुल वेतन का देयक मापदंड निर्धारित रहेगा या वर्तमान वेतन का या दोनों के बीच के अंतर को केंद्र बनाया जाएगा। जहां तक कर्मचारियों के नियमितीकरण की बात है तो यह बेहद आवश्यक और उपयोगी है। इसके साथ ही दिव्यांगों, दिवंगतों के परिजनों को भी इसमें सम्मिलित किया जाना चाहिए।

इसमें अर्धकुशल, कुशल श्रेणी में मतांतर नहीं होना चाहिए

श्री यादव ने कहा कि दैनिक वेतन भोगियों को सेवाकाल में निकाले गये व सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों को भी नियमित वेतनमान का लाभ दिया जाना चाहिए। इसमें महिलाओं, पदों के सृजन, वेतन वृद्धि व आरक्षण का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। शासन की जिन्होंने एक नियमित समयावद्धि तक सेवा की है, उनके परिजनों को भी इसमें शामिल किया जाना चाहिए। इसमें अर्धकुशल, कुशल श्रेणी में मतांतर नहीं होना चाहिए। 
श्री यादव ने कहा कि 48 हजार देनिक वेतन भोगी कर्मियों के साथ आरक्षित वर्ग के लोगों को भी इसमें सम्मिलित किया जाना राज्य सरकार की प्राथमिकता होना चाहिए।

पालीवाल वाणी ब्यूरो से अरविंद दवे

Tags: Indore, Paliwal wani, Paliwal Samaj, Rajesthan, इंदौर, पालीवाल समाज 24 श्रेणी, पालीवाल बजरंग मंडल, मालवा, निमाड, गणगौर माता, चारभुजानाथ मंदिर, राजस्थानी पर्व

Sponsor


Latest News
सर्व ब्राह्मण समाज वॉलीबॉल महासंग्राम 2018 प्रतियोगिता का सफल आयोजन

उदयपुर। युवाब्रह्मशक्ति उदयपुर मीडिया प्रभारी श्री योगेश पुरोहि...Read More

युवा ब्रह्मशक्ति मेवाड़ राजसमंद तहसील अध्यक्ष श्री सत्यनारायण पालीवाल मनोनित

राजसमंद। युवा ब्रह्मशक्ति मेवाड़ अध्यक्ष श्री योगेश पुरोहित ने पाल...Read More

श्री देवीलाल जोशी की प्रथम पूण्यतिथि पर 5100 रूपए प्रतिवर्ष देने की घोषणा

इंदौर। पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी इंदौर के युवा समाजसेविका श्र...Read More

अखिल भारतीय पालीवाल समाज के अध्यक्ष हिम्मत भाई-महामंत्री भागीरथ भूणिया निर्वाचित

भावनगर। पालीवाल ब्राह्मण समाज गुजरात (भावनगर) द्वारा अखिल भारतीय प...Read More