Latest News
      1. नेहा सिंघानिया का रिपोर्टर से कास्टिंग डायरेक्टर बनने का सफर      2. पुरोहित भी विद्यार्थी और यजमान भी विद्यार्थी - अर्वाचीन स्कूल में नवीन शिक्षा सत्र प्रारंभ      3. हल्दीघाटी युद्धतिथि पर शहीदों को दीपांजलि अर्पित      4. बिम्ट्स की दीपिका राजानी ने विश्वविद्यालय प्राविण्य सूची में अर्जित किया चतुर्थ स्थान       5. श्री मुन्नालाल जोशी ने मनाया जन्मदिन महोत्सव.दिनभर मिलती रही बधाई      6. श्री प्रेमशंकर मेनारिया जिलाध्यक्ष मनोनित
"यास" पुरुस्कार - Paliwalwani.com

"यास" पुरुस्कार

Devdutt Paliwal     Category: आपकी कलम     15 Jul 2016 (1:52 PM)

खून पसीने के बल पर जो पुरुस्कार को पता है,
कीमत बही समझता उसकी वह कभी नहीं लौटता हैं|
चाटुकारिता के बल पर जो पुरुस्कार पा जात्ते हैं,
खुलती हैं पोल जगत मैं जब तव वापस दे जाते हैं|
है शक्ति अगर सच लिखने की क्यों लिखकर नही दिखाते हो,
हो सच्चे सपूत माँ वाणी के तो क्यों पुरुस्कार ठुकराते होते हो|
जो होते है सीमा पर शहीद क्या वो परमवीर लौटते है,
वो करते है सम्मान सदा उसका वे सच्चे सपूत कहलाते है|
पुरुस्कार की कीमत को तुम जिस दिन पहचानोगे,
यास भूल विकत होगी जीवन की उस दिन तुम जानोगे|
पूंजी केबल पर पाया था अब क्यों उसको लौटते हो,
तव क्यों हक़ तुमने छीना था अब झूठा एमन दिखाते हो|
हैं धिक्कार बुम्हे कुछ शर्म करो तुम्हे लाज तनिक न आयी है,
बनते हो वाणी पुत्र स्वयं तुमने सब इज्जत धूल मिलाई है|
तुम करो घोषणा सरे आम अब हम और नहीं लौटायेंगे,
थी यह जीवन की बड़ी भूल अब हम और नहीं दोहराएँगे ||

Devdutt Paliwal - Paliwalwani

देवदत्त पालीवाल(निर्भय)

9448417578

Paliwal Menariya Samaj Gaurav