Latest News
      1. देशभर के 90 प्रतिशत अखबार होंगे बंद, लाखों अखबार कर्मी होंगे बेरोजगार-डीएवीपी का अंधा कानुन-अखबार बचाओ मंच      2. पालीवाल समाज भवन में 22 जुलाई से श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन-भव्य कलश यात्रा निकलेगी      3. आमेट सडक सुरक्षा के तहत जिला परिवहन अधिकारी ने बनाये 20 वाहनों के चालान      4. आमेट वीरवर पत्ता को नमन कर मनाया स्थापना दिवस      5. आमेट महाविद्यालय में हरित राजस्थान सप्ताह-प्रतियोगिता दक्षता कक्षाएँ 15 जुलाई से      6. महाकाल मंदिर में फर्जी पत्रकारों के प्रवेश पर पूरी तरह लगेगा प्रतिबंध- कलेक्टर

ब्राह्मण समाज सीहोर ने कंडे की होली जलाने का लिया संकल्प

Santosh Paliwal...✍️     Category: मध्य प्रदेश     14 Mar 2019 4:42 AM

सीहोर। ब्राह्मण समाज अध्यक्ष बालमुकुंद पालीवाल ने पालीवाल वाणी को बताया कि नवदुनिया के अभियान कंडे की होली को ब्राह्मण समाज ने समर्थन देते हुए कंडे की होली जलाने की शपथ ली है। इससे सामाजिक व सांस्कृतिक एकता के पर्व की आत्मा भी आहत होती है। गाय के गोबर से बने कंडे का शास्त्रों में महत्व है। इस वजह से हवन पूजन में प्रमुखता से इसका उपयोग किया जाता है। इसे हमें समझना होगा।

🔹 होलिकोत्सव में नवान्नेष्टि यज्ञ भी

ब्राह्मण समाज अध्यक्ष बालमुकुंद पालीवाल ने आगे कहा कि आज कल होलिका में प्रदूषण फैलाने वाली वस्तुओं को डालकर उसे अपवित्र किया जा रहा है। इससे बचना चाहिए और अपने पर्व की पवित्रता को बचाने आगे आना चाहिए। होलिकोत्सव में नवान्नेष्टि यज्ञ भी किया जाता है। हम खेत के अधपके अन्न को होलिका की अग्नि में सेंककर प्रसाद के रुप में ग्रहण करते हैं।

🔹 आप रहे विशेष रूप मौजूद

सर्वश्री आदित्य उपाध्याय, राकेश शुक्ला, अनिल शंडिल्य, उमेश शर्मा, कमलेश शर्मा, दीपक दुबे, मिथलेश शर्मा, आशीष पचौरी, चंद्र कि शोर शर्मा, महेश पारिक, शरद शर्मा, शिवनारायण शास्त्री, राके श शर्मा, राजेश शर्मा, दीपक शर्मा, प्रवीण जोड़ सहित कई ब्राह्मण साथीगण मौजूद थे।

🔹 गौपालन की मिलेगी प्रेरणा

ब्राह्मण समाज अध्यक्ष बालमुकुंद पालीवाल ने ब्राह्मण समाज के संगठनों से अपील करते हुए कहा कि कंडे के उपयोग से होली में प्रदूषण तो दूर होगा ही। इसके साथ ही गौपालन के लिए भी प्रेरणा मिलेगी। आज के समय में सभी पर्व की प्राचीन मान्यताओं को भूलकर अपने आनंद और उमंग का ही ध्यान रखते हैं। होली में हमें लकड़ी का उपयोग कम कर कंडे का उपयोग ज्यादा करना होगा। इससे पेड़ों की रक्षा होगी और पर्यावरण भी शुद्घ रहेगा। पेड़ के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती और होली में असंख्य पेड़ों की कटाई होती है। सभी को अपने जिम्मेदारी को समझते हुए इसकी जगह कंडे के उपयोग का संकल्प लेना होगा। तभी हमारे पर्व की मान्यताएं भी जीवित रहेंगी।
पालीवाल वाणी ब्यूरो- Santosh Paliwal...✍️
🔹 Paliwalwani News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
www.fb.com/paliwalwani
www.twitter.com/paliwalwani
www.paliwalwani.com
Sunil Paliwal-Indore M.P.
Email- paliwalwani2@gmail.com
09977952406-09827052406-Whatsapp no- 09039752406
पालीवाल वाणी हर कदम... आपके साथ...
*एक पेड़...एक बेटी...बचाने का संकल्प लिजिए...*