Latest News
      1. 24 को मानस गरबा रास...चालो गरबा...रमवा चालो      2. पालीवाल मातृशक्ति का गरबा महोत्सव 25 को      3. श्री पालीवाल ब्राह्मण समाज 24 श्रेणी इंदौर नवरात्री सांस्कृतिक महोत्सव का रंग चढ़ा परवान पर       4. निस्वार्थ भाव से दीन दुखियों की मदद करना ही सच्ची मानव सेवा : श्री साईं ज्योति फाउंडेशन      5. निस्वार्थ भाव से दीन दुखियों की मदद करना ही सच्ची मानव सेवा : श्री साईं ज्योति फाउंडेशन      6. केलवा में श्री अंबा माताजी का नवरात्रि जागरण सातम 16 अक्टूबर को

श्री मनसुख पालीवाल के सेवांनिवृत्त पर गंगा प्रसादी संपन्न

Sanjay Paliwal     Category: जोधपुर     04 Jun 2017 (7:56 PM)

बाप। हर दिलों पर राज करने वाले, बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाकर आज श्री मनसुख पालीवाल प्रधनाचार्य रा.उ.मा. वि. बाप, राजस्थान से 39 वर्ष की गरिमामय राजकीय सेवा पूर्ण कर 31 मई को सेवांनिवृत्त होने पर बाप जिले के समस्त शिक्षा जगत के प्रधानाचार्य, शिक्षक, अध्यापक सहित विद्यालय परिवार द्वारा आयोजित समारोह में तहसीलदार रणवीरसिह जी, विकास अधिकारी प्रहलादराम डूडी, पूर्व अति.जिला शिक्षा अधिकारी मेघराज पालीवाल, पूर्व सरपंच किशनलाल जी, आरएएस गोपालकृष्ण पालीवाल, पूर्व सरपंच जगदीश पालीवाल, प्रधान मगसिंह भाटी, जीवराज जी, ताराचंद जी अध्यापक, गणपतलाल हरजाल, मोहनलाल जी अध्यापक ओढाणीया, पूर्व सरपंच भेरूलाल पालीवाल मण्डला, ताराचंद रेवड़ी, जगदीश मुंधा, बाबुलाल छताणी, आदि सैकड़ो की सेख्या में सर्वसमाज के गण्यमान्यजनों ने मौजूद रहकर श्री मनसुख पालीवाल को हार्दिक बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की अनंत शुभकामनाए दी। समारोह में प्रधानाचार्य द्वारा विद्यालय में नामांकन बढ़ाने के लिए प्रथम से पाँचवी तक के विद्यर्थियो के लिए बेग देने की घोषणा करने से बच्चों में हर्ष की लहर छा गई। अभिषेक पालीवाल (मोखेरी), सुरेश पालीवाल (चेराई), ताराचंद पालीवाल (चेराई) हरीश पालीवाल (गागाडी़), चंपालाल पालीवाल (गागाडी़), देवीलाल पालीवाल (काकेलाव) सचिन नवयुग मंडल जोधपुर समस्त परिवार व मित्रगणों द्वारा हार्दिक बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की अनंत शुभकामनाए दी।

श्री मनसुख पालीवाल शिक्षा के प्रति समर्पित

श्री मनसुख पालीवाल कला के साथ-साथ शिक्षा की ज्योति जलाने में अग्रणी भूमिका निभाई। आमतौर पर मध्यवर्गी परिवार से ताल्लुक रखने के बाद शिक्षा, साहित्य और कला के प्रति समर्पण का भाव रख पाना संभव नहीं होता, लेकिन श्री मनसुख पालीवाल को जानने वाले लोग कहते हैं कि वह सामाजिक कार्यों को हमेशा प्राथमिकता दी. चाहे दौर किल्लत का रहा हो, या फिर कोई परेशानी में भी वह जूझ रहे हों और बात साहित्य और शिक्षा से जुड़ी होती थी, तो उसमें तमाम परेशानियों के बाद भी वह पूरे जिंदादिली के साथ भाग लेते है। साहित्य, कला व शिक्षा के क्षेत्र में श्री मनसुख पालीवाल ने जो काम किया है, उसे आज युवा की पीढी आगे ले जाएगी, श्री मनसुख पालीवाल के परिवार के लोग भी सामाजिक कार्यों में सतत् सक्रिय हैं। श्री मनसुख पालीवाल को पालीवाल वाणी एवं पालीवाल समाज चैराई की ओर से हार्दिक बधाई एवं आशा करते है कि जब भी शिक्षा जगत में आपकी आवश्यकता महसुस होगी तो सदैव आपको याद किया जाएगा, आप पालीवाल समाज से जूड कर शिक्षा एवं सामाजिक कार्यों में अग्रणी भूमिका निभाने का दायित्व निभाऐगें इसी शुभकामनाओं के साथ सदैव पालीवाल समाज आपके साथ। 

गंगा प्रसादी का समारोह एवं गंगा प्रसादी का आयोजन

श्री मनसुख धामट (पालीवाल) के सेवानिवृत्त होने एवं गंगा स्नान कर आने के उपलक्ष्य में एक समारोह एवं गंगा प्रसादी का आयोजन श्री मनसुख, फरसराम, रेखचंद धामट (पालीवाल) चौधरियों का वास, बाप तहसील बाप जिला जोधपुर राजस्थान पर संपन्न हुआ। 30 मई को गंगा मैया का जागरण, 31 को सेवानिवृत्ति समारोह एवं झारी पूजन व गंगा प्रसादी के कार्यक्रम में सैंकडों की संख्या मे मौजूद रहकर आयोजन को सफल बनाया।

परिजनों ने मनाई खुशी

श्री मनसुख पालीवाल के परिजनों में सर्वश्री हरीशचंद (से.नि. अध्यापक), मेघराज (से.नि. अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी), मोहनलाल (अध्यापक), फरसराम, ललित (कस्टम सुपरिटेडेंट), भंवरलाल (अध्यापक), रेखचंद्र (से.नि. सी.सु.ब.), इंजीनियर राकेश, ललित कुमार (ब.अ.), देवकिशन (अध्यापक), किशनलाल, जयप्रकाश (पटवारी), डाॅ. हेमंत, इंजी, तरूण, विजय, केशव, पुखराज (मेलनर्ससैकण्ड ग्रेड), सुरेश, देवीलाल, लक्ष्मीनारायण, इंजि. अरविंद, मोतीलाल, कन्हैया, खुशहाल, योगेश, मोती, जगमोहन, भरत, मुदित, कृष्णम्, एवं समस्त धामट परिवार बाप (मोखेरी) परिवार ने मौजूद रहकर यादगार पलों को शानदार तरीके से निभाया।

पालीवाल वाणी ब्यूरो-संजय पालीवाल चैराई

www.paliwalwani.com
09977952406,09827052406
पालीवाल वाणी की खबर रोज अपटेड...
पालीवाल वाणी हर कदम...आपके साथ...
रोज खुलता है किताबों में...

Paliwal Menariya Samaj Gaurav