Latest News
      1. श्री श्यामसुंदर नागदा का निधन-अंतिम यात्रा आज      2. मेनारिया समाज में अन्नकूट महोत्सव आज      3. युवा ब्रह्मशक्ति का राष्ट्रीय अधिवेशन ब्रह्मोत्सव उदयपुर में संपन्न      4. खो-खो में चार बालिकाओं का विश्व विद्यालय की टीम में चयन      5. मंत्री किरण माहेश्वरी ने किया ग्रामीण क्षैत्रों में सघन जनसम्पर्क      6. निर्वाचन से जुड़ी मशीनरी प्रोएक्टिव होकर करें चुनावी कामकाज का सम्पादन: मारुत त्रिपाठी

श्री चारभुजानाथ की भव्य पदयात्रा इंदौर से 2 सिंतबर को निकलेगी

sunil paliwal, Rajesh Purohit, Pulkit Purohit...✍️     Category: इंदौर     20 Aug 2018 (2:55 AM)

शोभायात्रा का कई संगठन करेंगे स्वागत-ब्रह्मलीन श्री हीरालाल जी जोशी का मिलता है आर्शीवाद-श्री संतोष जोशी (संटु)

इंदौर। श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ के यात्रा संयोजक श्री संतोष हीरालाल जोशी (संटु) ने पालीवाल वाणी को बताया कि निरंतर 32 वर्षों से प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी 2 सिंतबर 2018 रविर को श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ के नेतुत्व में इंदौर से आराध्य देव श्री चारभुजानाथजी की भव्य शोभायात्रा निकलेगी। 2 सिंतबर को सुबह 9 बजे इंदौर से पैदल यात्री रवाना होगे जो 20 सिंतबर को श्री चारभुजानाथ जी (गढ़बोर) राजस्थान में प्रभु श्री चारभुजानाथ जी के दर्शन लाभ लेगे। इंदौर से निकलने वाली भव्य शोभायात्रा में घोडा, हाथी, बग्गी एवं आकर्षित करती हुई झाकियों भी रहेगी। शोभायात्रा श्री चारभुजानाथ मंदिर पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी धर्मशला परिसर इंदौर से होते हुए से तिलक पथ, इमली बाजार, सुभाष मार्ग, जिंसी चौराहा, शंकरगंज, किला मैदान, मरीमाता चौराहा, दुर्गानगर मेनरोड़, कुम्हारखाड़ी होते हुए बाणगंगा क्षैत्र में शोभायात्रा का अंतिम पड़ाव होगा। वही से पैदल यात्री श्रद्वालुजन श्री चारभुजानाथ जी (गढ़बोर) राजस्थान हेतु प्रस्थान करेगे। यात्रा डोल ग्यारस के अवसर पर श्री चारभुजा जी पहुँचेगी। जहाँ भव्य महाप्रसादी के साथ अगले बरस तक पदयात्रा को विश्राम दिया जाएगा।

जगह-जगह होगा भव्य स्वागत

श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ के नेतृत्व में श्रद्वालुंजनों के लिए सत्कार हेतु जगह-जगह विभिन्न संगठनों की ओर से भव्य स्वागत मंच लगाकर भव्य स्वागत किया जाएगा। इस बार भी प्रतिवर्षानुसार पैदल यात्रा मार्ग पर जिसमें अबीर, गुलाल, फुलों की पंखड़ी से लगाकर सुगंधित चंदन का इत्र इत्यादि से श्री चारभुजानाथ जी ओर भक्तों का सामाजिक कार्यकर्ताओं की ओर से स्वागत किया जावेगा।

मातृशक्ति की ताकत है संघ

श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ की निकलने वाली भव्य शोभायात्रा में मातृशक्ति काफी संख्या में मौजूद रहकर पैदल यात्रीयों का उत्साहवर्धन करती हुई दिखाई देगी। यात्रा के माध्यम से पालीवाल ब्राह्मण समाज इंदौर, सहित विभिन्न समाज की मातृशक्ति अपनी ताकत का इजहार भी करेगी। जो उत्साह देखने लायक होता हैं। प्रभु सेवा में मातृशक्ति श्री चारभुजानाथ के मधुर गीतों पर नृत्य करते हुए, जयघोष के साथ कदमताल करेगी तो समूचा इंदौर में श्री चारभुजानाथ जी की गूंज सुनाई देगी।

ब्रह्मलीन श्री हीरालाल जी जोशी का मिलता है आर्शीवाद

ब्रह्मलीन श्री हीरालाल जी जोशी (बिजनोल) की यादों को ताजातरीन करने के लिए श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ के संयोजक श्री संतोष जोशी ने पालीवाल वाणी को बताया कि बाबुजी के आर्शीवाद फलस्वरूप निरंतर 32 वर्षों से सफलता पूर्वक पैदल यात्रा का संचालन निःशुल्क किया जा रहा है। इस यात्रा में पालीवाल समाज 44 श्रेणी, 24 श्रेणी, एवं मेनारिया ब्राह्मण समाज के अलावा विभिन्न श्री चारभुजानाथ जी के भक्त इस यात्रा में शामिल होकर अपनी मनोकामना पूर्ण करते है। इस यात्रा में शामिल होने के लिए विभिन्न गांवों से भी भक्तगण शामिल होते है, इंदौर से पैदल यात्रा का कारवां धीरे-धीरे बढ़ते हुए विशाल जनसमूह में तब्दील हो जाता है। जो इस यात्रा की एक ऐतिहासिक उपलब्धि हैं।

paliwalwani

चारभुजा जी-गढ़बोर का महत्व

श्री संतोष जोशी ने पालीवाल वाणी को आगे बताया कि चारभुजा भगवान विष्णु का दूसरा नाम है। यह जगह गांव गढ़बोर जिला राजसमंद तहसील कुम्भलगढ़ में है। राजपूत जिन्हे बोर कहा जाता है, ने एक किले के साथ गढ़बोर की स्थापना की। किले को हिंदी में गढ़ कहते हैं। इसलिएए इस गांव का नाम गढ़बोर था। भगवान विष्णु के चार हाथ है, इसलिए उनका दूसरा नाम चारभुजा है। चारभुजा का मतलब है चार हाथ है। यह मंदिर अरावली पर्वत श्रृंखला में है। चारभुजा राजसमंद जिले से लगभग 38 किलोमीटर की दूरी पर है।

paliwalwani

जलजुलनी एकादशी का आनंद

श्री संतोष जोशी, गौरीशंकर जोशी ने पालीवाल वाणी को महत्वपूर्ण जानकारी देते हुए आगे बताया कि एकादशी हिंदू कैलेंडर से त्योहार का दिन है। जलजुलनी एकादशी एक खास दिन है जो वर्ष में केवल एक दिन आती है। इस दिन श्री चारभुजानाथ जी के भक्तगण गढ़बोर में मेले का आनंद खुब लेते है। इस दिन लाखों लोग आते हैं। इस त्योहार पर भगवान विष्णु को निकटतम नदी में स्नान के लिए ले जाये जाते हैं। लोग प्रभु चारभुजा बैठने के लिए एक पालकी बनाते हैं। वे अपने हाथों में पालकी लेते है। और प्रभु स्नान के लिए सबसे पास तालाब में जाते है। वे सभी लोगों पर लाल रंग का गुलाल फेंकते है। वे इस अवसर पर भगवान के लिए गीत गाते हैं। कुछ लोग आनंद के साथ नृत्य करते हैं।

paliwalwani

।। श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ, पालीवाल वाणी समाचार पत्र की ओर से...जय चारभुजा री...करों सबकी मनोकामना पूरी...।।

हमारा सौभाग्य है...आपका साथ पाकर...धन्यवाद दिल से...
पालीवाल वाणी ब्यूरो-राजेश पुरोहित, पुलकित पुरोहित...✍️
🔹Paliwalwani News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
www.fb.com/paliwalwani
www.twitter.com/paliwalwani
Sunil Paliwal-Indore M.P.
Email- paliwalwani2@gmail.com
09977952406-09827052406-Whatsapp no- 09039752406
पालीवाल वाणी हर कदम... आपके साथ...
*एक पेड़...एक बेटी...बचाने का संकल्प लिजिए...*

Paliwal Menariya Samaj Gaurav