Latest News
      1. मेनारिया समाज में अन्नकूट महोत्सव आज      2. युवा ब्रह्मशक्ति का राष्ट्रीय अधिवेशन ब्रह्मोत्सव उदयपुर में संपन्न      3. खो-खो में चार बालिकाओं का विश्व विद्यालय की टीम में चयन      4. मंत्री किरण माहेश्वरी ने किया ग्रामीण क्षैत्रों में सघन जनसम्पर्क      5. निर्वाचन से जुड़ी मशीनरी प्रोएक्टिव होकर करें चुनावी कामकाज का सम्पादन: मारुत त्रिपाठी      6. कांग्रेस द्वारा प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी नहीं होने पर जिले में दावेदारों की बढ़ी धडक़ने

पालीवाल समाज सहित अन्य डोल को देखने के लिए नगरवासी उमड़े-मातृशक्ति ने दिखाई तकात

Anil bagora     Category: इंदौर     13 Sep 2016 (5:22 AM)

इंदौर। श्री पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी इंदौर के द्वारा प्रति वर्षानुसार इस वर्ष भी नगर में धूमधाम से श्री चारभुजानाथ जी की सवारी नगर भ्रमण पर निकली। श्री पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी इंदौर के आयोजन में नगर सहित आसपास के ग्रामीण अंचलों से भी कलाकारों को बुलवा कर प्रस्तुतियां दी गई। अन्य समाज के डोल की झाकियों में कोई राधा कृष्ण और कोई राम, लक्ष्मण, हनुमान का वेश धारण कर झाकियों में भ्रमण पर निकले तथा विभिन्न हैरत अंगेज करतब भी दिखाए गए। नगर के सबसे प्रसिद्ध प्राचीन मंदिर श्री चारभुजानाथ मंदिर से श्री चारभुजानाथ जी का भव्य ढोल ग्यारस का जलसा पूरे नगर में डीजे की धुन व् भजनों की मधुर ध्वनीयों की शानदार प्रस्तुतियां देते हुए नाचते गाते जय छोगाला, जय चारभुजा री, जय श्रीकृष्ण, हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैयालाल की, छोगाला अपनी मस्ती में पालीवाल अपनी बस्ती के जय करो से पूरे नगर को भक्तिमय में तब्दील कर दिया। समाज के डोल के साथ समाज अध्यक्ष श्री भुरालाल व्यास जी का जगह-जगह स्वागत कर फूलों की बरसात के बीच कई स्वागत मंचों से उपरना, प्रतिक चिन्ह, साफा पहनाकर भव्य स्वागत किया गया। इस आयोजन से पालीवाल समाज भी गौराविन्त हुआ।

मातृशक्ति ने दिखाई अपनी ताकत

नगर के सबसे प्रसिद्ध प्राचीन श्री चारभुजानाथ जी का ढोल ग्यारस का जलसा पूरे नगर में डीजे की धुन व् पालीवाल भजन मंड़ल पालीवाल रामायण मंड़ल के भजन गायकों ने भजनों की सुरमुर ध्वनीयों की प्रस्तुतियां देकर डोल में चलने वाली पालीवाल समाज की मातृशक्यिों के अलावा अन्य समाज की मातृशक्यिों ने गजब की एकता दिखाकर समाज में संदेश दिया कि अगर उन्हें भी समाज की कार्यकारिणी में उचित जगह मिले तो समाज की तरक्की ओर समाजनियमों में काफी बदलाव रखने की प्रबल शक्ति रखती है। मगर ऐसा होना संभव नहीं जब तक पुरूष प्रधान समाज के कर्ताधर्ता विश्वास में लेकर समाज का चिंतन नहीं करेगें। तब तक माातृशक्ति नेतृत्वहीन ही रहेगी। डोल में मातृशक्ति में तुलसाबाई व्यास, अनिता व्यास, गंगा जोशी, सुशीला जोशी, ममता पुरोहित, गीता मेनारिया, राधा पुरोहित, लीला व्यास, संगीता दवे, कुसुम दवे, प्रमिला जोशी, सुमन दवे, ललिता दवे, मांगीबाई जोशी, कला जोशी, नीता अग्रवाल, सुरेखा जैन, अंकिता जोशी, प्राची पालीवाल, निकिता जोशी, सहित अन्य मातृशक्यिों ने डीजे की धुन पर मनमोहक आकर्षित नृत्य करते हुए, जयकारों से नगर को भक्तिमय बना दिया।

समाज के मंत्री गायब- तिरछी वाणी से बचे नहीं

पालीवाल समाज के विशाल डोल आयोजन में समाज के मंत्री श्री किशन दवे सहित कई पदाधिकारियों के गायब होने की चर्चा डोल के चल समारोह में होती रही। समाजबंधुओं का कहना था कि समाज ंमंत्री श्री किशन दवे 13 सिंतबर को डोल निकलना चाहते थे। लेकिन समाज अध्यक्ष श्री भूरालाल व्यास के समाने उनकी एक नहीं चली वही कार्यकारिणी ने भी अपना आक्रोश दिखाया था कि जब सम्पूर्ण इंदौर शहर 12 सिंतबर को डोल निकल रहा है तो 13 सिंतबर को डोल निकालने का क्या कारण था वो तो मंत्री जी जाने पर एक बात सही है कि मंत्री जी बात के पक्के नेता बन चुके है। इस आयोजन में गायब होकर उन्होंने भी खुल्ले आम मोर्चा खोल दिया कि मै जो भी करू मेरी मर्जी। बार-बार बोर्ड लगाकर समाजबंधुओं को सपने दिखाते है, ओर आंख खोलते ही सपने ओझल हो जाते की कहावत मंत्री पर ठीक बैठती है। फिर ना कहेना कि तिरछी वाणी हमारे बारे में ही क्यों लिखती है। जय चारभुजा री ।।
जयकिशन पुरोहित

 समाजसेवी भी हुए श्री ठाकुर की यात्रा में शामिल

श्री पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी इंदौर के अध्यक्ष श्री भुरालाल व्यास के नेतृत्व में निकलने वालों ठाकुर जी के भव्य डोल में सर्वश्री समाज उपाध्यक्ष बंशीलाल जोशी, भवन मंत्री देवकिशन पुरोहित, कोषमंत्री रेवाशंकर पुरोहित, भंडार मंत्री मदन बागोरा, उत्सवमंत्री सोहन पुरोहित, शिक्षामंत्री अनिल दवे, कार्यकारिणी सदस्य देवीलाल जोशी, अंबालाल जोशी, लेहरूलाल बागोरा, जमनालाल व्यास, मुकेश उपाध्याय, पूर्व सदस्य नारायण दवे (दवे मेडिकोज) सहित समाजबंधुओं में भंवरलाल पुरोहित, प्रेमनारायण जोशी, भाजपा नेता टीकम जोशी, सोनु जोशी, रामचंद्र बागोरा, विजय जोशी, मुन्ना जोशी, आरके जोशी, यशवंत पुरोहित (लाला), श्यामू जोशी,, संतोष दवे, रमेश जोशी, हीरा दवे, राजेश पुरोहित, धर्मेन्द्र पुरोहित, गोल्डी पुरोहित, गौरव पुरोहित, ओम जोशी, सचिन व्यास, प्रकाश जोशी, प्रकाष दवे, नारायण दवे, पालीवाल वाणी समूह से सुनील पालीवाल, अनिल बागोरा, पुष्पेंद्र पालीवाल, सुरेश दवे, शंकर जोशी (विरधोलिया), सुनील जोशी, पवन जोशी, भरत दवे, घनश्याम व्यास, नारायण दवे (हलवाई)गोल्डी पुरोहित, गौरव पुरोहित, मंयक बागोरा, तरूण, अर्जून जोशी, कृष्ण, बागोरा, शुभम जैन, पारस व्होरा सहित कई समाजबंधुओं ने डोल चल समारोह में शामिल होकर समाज की शोभा बढ़ाई। श्री पालीवाल ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी इंदौर ने समस्त श्रद्वालुजनों एवं सहयोकर्ता का आभार माना। पालीवाल वाणी, संस्था ब्राह्मण परिवार, बालाजी ग्रुप, पालीवाल सोश्यल ग्रुप, पालीवाल बजरंग मंड़ल, पालीवाल भजन मंड़ल, पालीवाल रामायाण मंड़ल, सामूहिक संस्कार सेवा समिति, संस्था मेंवाड़ मंडल श्री चारभुजनाथ भक्त मंड़ल, श्री चारभुजानाथ पैदल यात्री संघ, श्री चारभुजानाथ मेंवाड़ ने भी सभी संगठनों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए आभार माना।

कई मंचों से हुआ भव्य स्वागत

कई व्यायाम शाला के अखाड़े ने भी अपने करतब दिखाकर इस समारोह में चार चाँद लगा दिए। वही बालाजी ग्रुप पीरगली, पुरोहित परिवार, पालीवाल वाणी समूह, सुभाष चैक जोशी, परिवार मित्रबंधु, पालीवाल मित्र बंधु, राजबाडा पर आर.सी दवे अमर रहे मित्र मंड़ल, प्रिस यशवंत रोड़ रोड पर श्री रमेश् जोशी, सुनील जोशी ने पेड़ांे का प्रसाद वितरण किया। जोशी परिवार के द्वारा प्रतिवर्षानुसार प्रसाद वितरण किया जाता हैं। संकल पंच साहु क्षैत्रिय बाथली समाज, राजपुत समाज, राधाकृष्ण अहिर यादव मंच, पूर्वी क्षैत्र धार्मिक संगठन, ब्रह्मलीन पं. भवानी कश्याप मंच, क्षैत्रिय समाज, मां देवी अहिल्या विचार मंच के द्वारा समाज अध्यक्ष श्री भूरालाल व्यास को पूषमाला, उपरना, श्रीफल, प्रतिक मेमोटो देकर सम्मानित किया। वही नगर में पुलिस प्रशासन का भी सराहनीय कार्य रहा।

डोल ग्यारस के दिन व्रत का महत्व

डोल ग्यारस के दिन व्रत करने से व्यक्ति के सुख-सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है। डोल ग्यारस के विषय में यह भी मान्यता है कि इस दिन माता यशोदा ने भगवान श्रीकृष्ण के वस्त्र धोए थे। इसी कारण से इस एकादशी को जलझूलनी एकादर्शी भी कहा जाता है। इसके प्रभाव से सभी दुखों का नाश होता है। इस दिन भगवान विष्णु एवं बालकृष्ण के रूप में भी पूजा की जाती है जिनके प्रभाव से सभी व्रतों का पुण्य मनुष्य को मिलता है। जो मनुष्य इस एकादशी को भगवान विष्णु के वामन रूप की पूजा करता है, उससे तीनों लोक पूज्य होते हैं। आज डोल ग्यारस पर श्री चारभुजानाथ गढ़बोर में मच रही है धुम सभी भक्तो की मनोकामना को पूरी करने के लिए श्री चारभुजानाथ जी छोगाला के स्वरूप में दर्षन देकर कर रहे श्रद्वालुजनों को धन्य।

सशुल्क प्रसादी का आयोजन आज

श्री चारभुजानाथ मंदिर परिसर की धर्मशाला में समाज की ओर से सशुल्क लेकर महाप्रसादी का आयोजन भी आज किया जा रहा है। जिस समाजबंधुओं को महाप्रसादी में शामिल होना है। वे पदाधिकारियों से संपर्क कर महाप्रसादी का आनंद ले सकते है।

पालीवाल समाज सहित अन्य डोल को देखने के लिए नगरवासी उमड़े-मातृशक्ति ने दिखाई तकात
अनिल बागोरा, पुष्पेन्द्र पालीवाल की कमल से 

 

Paliwal Menariya Samaj Gaurav