Latest News
      1. सर्व ब्राह्मण समाज इंदौर के समाजसेवी श्री अशोक अवस्थी को विभिन्न संगठनों ने दी श्रद्वाजंलि      2. विश्व हिन्दू परिषद सामाजिक समरसता अभियान-शैक्षणिक परिवेश को विकसित करना होगा : हेमराज सिंधल      3. पालीवाल समाज के वरिष्ठ समाजसेवी श्री धुलीराम पुरोहित पंचतत्व में विलीन-किया पौधारोपण      4. पालीवाल ब्राह्मण समाज की समाजसेविका श्रीमती मोहनी बाई पालीवाल का निधन-आत्मीय श्रद्वाजंलि अर्पित      5. आमेट मगरा विकास योजना में बनी दुकानों की हुई नीलामी      6. सर्व ब्राह्मण समाज का निःशुल्क युवक-युवती परिचय सम्मेलन इंदौर में होगा

मेनारिया ब्राह्मण समाज मे भी आज करवा चौथ का आयोजन

Paliwalwani Editor     Category: इंदौर     29 Oct 2015 6:15 PM

इंदौर/संगीता जोशी। मेनारिया ब्राह्मण समाज 52 श्रेणी इंदौर की माहिला मंड़ल अध्यक्ष श्रीमति विमला राजाराम जोशी, मंत्री सोनाली सुरज जोशी, उत्सव मंत्री श्रीमती योगिता अनिल पुरोहित, कार्यकारिणी सदस्य श्रीमती संगीता शेखर जोशी ने पालीवाल वाणी को बताया कि इस वर्ष माहिला मंड़ल की कार्यकारिणी ने निर्णय लिया था जिसके तहत आज मातृशक्ति का महापर्व करवा चौथ का आयोजन मेनारिया माहिला मंड़ल के तत्वाधान में कानुनगो बाखल मेनारिया धर्मशाला इंदौर में आयोजित आज किया जा रहा है। जिसको लेकर माहिला मंड़ल विगत एक माह से सतत् घर घर जाकर माहिलाओं से मिलकर आयोजन में शामिल होकर कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए दिन रात एक कर दिए।

समाज में नई सोच का संचार

समाज के अंदर लगातार सामुहिक आयोजन से समाज में नई जनजाग्रृति आई है। जब से समाज अध्यक्ष श्री जसराज मेहता ने कमान संभाली है। जब से समाज में नई सोच का संचार हुआ है। जहां मातृशक्ति अपने खुद के आयोजन का संचालन कर रही है। वही समाज में पैसे बचाने का संकल्प भी ले रही है। इस करवा चौथ में समाज की मातृशक्ति का अहम रोल अदा होने जा रहा है।

करवा चौथ पर महिलाओं के मन में एक अजीब-सी हलचल

कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाने वाला त्योहार करवा चौथ एक ऐसा पावन दिन है जब पति की आयु के लिए की गई प्रार्थना प्रभु स्वीकार करते हैं और यही विवाहिता के लिए बड़ा वरदान है। चौथ के एक दिन पहले ही महिलाएं मेहंदी लगवाकर अपनी सजी हथेली से पूजन करती हैं। करवा चौथ नजदीक आते ही महिलाओं के मन में एक अजीब-सी हलचल होने लगती हैं। उनका मन साज-श्रृंगार करने के लिए लालायित होने लगता है। महिलाएं इस त्योहार की तैयारी महीनों पहले से ही करने लगती हैं। परंपरा, फैशन और आधुनिकता के अनुरूप सजने-संवरने के लिए महिलाएं, कुंवारी कन्याएं तरह-तरह के सजने-संवरने के सामान को बाजार से समेटकर ले आती हैं और इस आने वाले पर्व का इंतजार करती हैं।