Latest News
      1. महिला की शिकायत पर कार्मिक विभाग सख्त-जांच भेजने के निर्देश से कलेक्टर में मचा हडकंप      2. पालीवाल समाज इंदौर की समाजसेविका श्रीमती विद्या देवी पुरोहित का दुखद निधन-अंतिम यात्रा 4 बजे      3. कैरियर महिला मंडल ने संघर्ष से बनाई नई राह : सांसद दिया कुमारी      4. पालीवाल समाज की भाविका जोशी हुई सम्मानित      5. पालीवाल समाज की प्रतिभाशाली बिटिया गरिमा जोशी को पालीवाल समाज ने किया सम्मानित      6. पालीवाल समाज के श्री भरत बागोरा को सुयश

तिरंगे का मान

Balkrishan Bagora     Category: दिल्ली     20 Aug 2016 (12:04 PM)

बजार से सोना, चाँदी, कास्य क्रय कर सकते है,
मगर रियो-16 में जीतकर इन्हे जो प्राप्त कर सकते है।
अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, रूस सब धातु जीत गये,
भारतीय खिालाडी अपने हुनर से हार कर भी जीत गये।
हम निराश कभी होतेे नही, खेल के मैदान में,
रास्ता बना ही लेते सागर के तुफान में।
हमारे देश की बेटियांे ने तिंरगे का मना रखा,
कुश्ती के कौशल में, बैडबिंटन की कला में,
साक्षी-सिंधु ने पदक भारत की झोली में रखा।
अभी आशा है, आगे और तम्गे जितेगें,
खेल भावना से हर खिलाडी पीछे नही हटेगें।
तिरंगा ऊँचा रहे, यह सबको भान है,
खेल-खेल है, इसे सहजता से खेलना ही हमारी शान है।
जब दो खेलते है तो एक की जय दुजे की पराजय होती है,
जब विश्वास की कश्ती चलती ‘‘जलेन्द्र’’ झंझावतों को पीछेे छोड देती है।

--प्रेषक--
बालकृष्ण खेमराज जी बागोरा (ग्राम. आमेट ) ‘‘जलेन्द्र’’
पालीवाल वाणी-संस्थापक, इंदौर
07389264545