Latest News
      1. 24 को मानस गरबा रास...चालो गरबा...रमवा चालो      2. पालीवाल मातृशक्ति का गरबा महोत्सव 25 को      3. श्री पालीवाल ब्राह्मण समाज 24 श्रेणी इंदौर नवरात्री सांस्कृतिक महोत्सव का रंग चढ़ा परवान पर       4. निस्वार्थ भाव से दीन दुखियों की मदद करना ही सच्ची मानव सेवा : श्री साईं ज्योति फाउंडेशन      5. निस्वार्थ भाव से दीन दुखियों की मदद करना ही सच्ची मानव सेवा : श्री साईं ज्योति फाउंडेशन      6. केलवा में श्री अंबा माताजी का नवरात्रि जागरण सातम 16 अक्टूबर को

भोपाल में तनाव-दो समुदायों के लोग आमने-सामने, शांति बनाएं जाने की अपील

दिनेश दवे     Category: भोपाल     30 May 2017 (7:47 PM)

भोपाल। हमीदिया अस्पताल परिसर में निर्माण कार्य के दौरान निकले कथित धार्मिक स्थल को लेकर विवाद बढ़ता ही चला जा रहा है। मंगलवार देर रात दो समुदायों के लोग आमने-सामने आ गए। एेसे में कुछ असामाजिक तत्वों माहौल बिगाडऩे के वाहनों में तोडफ़ोड़ भी कर दी। मौके पर पहुंचे पुलिस फोर्स ने स्थिति को संभालने के लिए आंसू गैस के गोले छोडक़र भीड़ को तितर-बितर कर दिया। क्षेत्र में फिलहाल तनाव की स्थिति बनी हुई है। प्रशासन ने किसी भी प्रकार की अफवाह पर जनता को ध्यान नहीं देने की अपील की है। किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति निर्मित नहीं होने दी जाएगी। लोगों को शांति बनाएं जाने की अपील की हैं। 

बनाया जा रहा है 1200 बिस्तरों का अस्पताल- जिस जगह पर विवाद चल रहा है उसी स्थान पर सरकार की ओर से 1200 बिस्तरों के अस्पताल के लिए बहुमंजिला भवन बनाया जा रहा है। इसका निर्माण लंबे समय से जारी है। यहां अलग-अलग दिशाओं में काफी खुदाई की गई है। इस विवाद से अस्पताल के निर्माण में अडंगा भी लग सकता है। इसका असर लाखों लोगों को मिलने वाली बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं पर असर पड़ेगा।

ये है मामला- हमीदिया अस्पताल में चल रहे निर्माण कार्य के दौरान कुछ शिलालेख निकले हैं जिन्हें एक समुदाय अपना धार्मिक स्थल बता रहा है। इसके ठीक सामने मंदिर है जहां पर सुबह-शाम पूजा-अर्चना की जाती है। सोमवार को प्रशासन ने धार्मिक स्थल से लाउड स्पीकर हटवा दिया था। उसके बाद रात को एक समुदाय के काफी लोग वहां एकत्रित हो गए। मंगलवार सुबह से वहां तनाव की स्थिति थी, शाम को कुछ लोग मंदिर में आरती करने गए तो उन्हें पुलिस प्रशासन ने रोक दिया, और वहां से हटा दिया। इधर दूसरे समुदाय के लोग भी वहां एकत्रित हो गए। 

वो जगह सरकारी सम्पत्ति है, उस जगह धार्मिक गतिविधियां न हों। दस्तावेजों में भी वहां धार्मिक स्थल होने के प्रमाण नहीं मिल रहे हैं। प्रथम विश्व युद्ध के समय के कुछ प्रमाण जरूर मिले हैं।

निशांत वरवड़े, कलेक्टर

फोटो- दिनेश दवे www.paliwalwani.com

Paliwal Menariya Samaj Gaurav