Latest News
      1. 2019 में मोदी मैजिक पर लग सकता है ब्रेक... !      2. उर्जित पटेल के पीछे छिपा इस्तीफा का राज      3. राधाकृष्ण सीरियल में गजब के दिख रहे है धनबाद के आलोक शर्मा      4. श्री गुलाबचंद्र व्यास का निधन-अंतिम यात्रा आज      5. इंदौर में भाजपा को हो रहा है नुकसान-सर्वे में कांग्रेस जीत की ओर      6. श्री बबलु बागोरा का दुःखद निधन-अंतिम यात्रा कल

औपचारिता - हिन्दी दिवस विशेष

Balkrishan Bagora     Category: आपकी कलम     14 Sep 2016 (4:20 AM)

देश का स्वाभिमान,
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी,
को कितना मिला मान है,
हर घर, परिवार ही इस
भाषा का कर रहे अपमान|

जिसे देखो अपने बच्चो को
अँग्रेज़ी का ही दे रहे है ज्ञान
किसी भाषा की जानकारी
से किसीको इनकार नही
मगर हमारे शीश पर विदेशी
भाषा का यदि साम्राज्य होगा,
तो बच्चे भविष्य मे हिन्दी
का कैसे कर सकेंगे अभिमान|

चन्द लोगो से हिन्दी का दामन
एक दूजे के हाथ मे भूल रहा,
केवल राष्ट्रभाषा दिवस मानने
की औपचारिकता से कुछ होता नही,
प्रतिदिन, हर घर परिवार मे,
राष्ट्रभाषा की खुराक देना
ही देश का होना चिए अभियान
नही तो बच्चे कुछ वर्षो मे,
"जलेन्द्र" बिसर जाएँगे हिन्दी ज्ञान|

-- बालकृष्ण बागोरा"जलेन्द्र" --
परामर्शदाता पालीवाल वाणी समाचार पत्र
+91-7389264545

Paliwal Menariya Samaj Gaurav