Latest News
      1. पालीवाल समाज इंदौर कार्यकारिणी सदस्य श्री धर्मनारायण पुरोहित का जन्मदिन मनाया      2. मुबारिक अजनबी मानव अधिकार युवा संगठन के जिला मिडिया प्रभारी मनोनीत      3. शिक्षक संघ राष्ट्रीय पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग को लेकर आज करेंगे प्रदर्शन - श्री मुकेश वैष्णव      4. आमेट के राजकीय विद्यालय में राष्ट्रीय नाई महासभा ने लिया पौधारोपण का संकल्प      5. आमेट में वेवरमहादेव मंदिर पर बना एनिकट छलका-तीन दिन बाद हुए सूर्य देव के दर्शन लाभ      6. नेमावर में करोड़ों की लागत से निर्मित पंच बालयति मंदिर का पंचकल्याणक महोत्सव फरवरी में

आमेट नगर ओर कुंभलगढ विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस की करारी हार का कौन जिम्मेदार...!

Kishan Paliwal...✍     Category: आमेट     05 Jun 2019 6:56 PM

आमेट। (एम. अजनबी की कलम से...✍) बीते दो विधानसभा चुनावो ओर पंचायत व नगर पालिका चुनाव में लगातार करारी हार झेलने के बाद अब लोकसभा चुनाव में भी एक बार फिर आमेट मुख्यालय सहित विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को चारो खाने चित्त होना पड़ा। हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव के दौरान आमेट नगर पालिका क्षेत्र में पहली बार भाजपा को 3370 के करीबन भारी भरकम वोटों की बढ़त मिली। जो एक अच्छी बढ़त कही जा सकती है। वहीं इस बार कुंभलगढ-आमेट विधानसभा क्षेत्र से भाजपा को 63471 हजार से अधिक मतों की बढ़त मिली। इतनी करारी शिकस्त होने के बावजूद भी कांग्रेस के किसी भी जिम्मेदार नेता ने इस हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेना मुनासिब नहीं समझा। जिसके चलते अब कांग्रेस में धीरे-धीरे आंतरिक हलचले शुरू हो गई है। बहरहाल कोई भी कांग्रेसी नेता सामने आना नहीं चाहता। और कार्यकर्ताओं में नाराजगी भी देखने को मिल रही है। आमेट नगरपालिका क्षेत्र सहित आमेट कुभंलगढ विधानसभा क्षेत्र में हुई करारी हार से कार्यकर्ताओ में काफी मायूसी छाई हुई है।

● आमेट से कांग्रेस का सूफडा साफ ना हो जाए

अब कुछ माह बाद होने जा रहे आमेट नगर पालिका चुनाव का भय सताने लग गया। कि कही लोकसभा चुनाव की तरह नगर पालिका चुनाव में भी कांग्रेस का सूफडा साफ ना हो जाए। हालांकि कुछ कांग्रेसी नेता यह कहकर पल्ला झाड़ रहे है कि यह मोदी लहर थी...इस लहर में कोई भी हार सकता है, मोदी फेक्टर के साथ-साथ कांग्रेस में आपसी खींचतान का भी नतीजा है, जो राजस्थान मे बूरे हारे...पराजित प्रत्याक्षीयों को अब तक होश ही नहीं आ रहा है कि वो क्यों हारे...मोदी लहर नहीं होती तो भी कांग्रेस का हार ही मिलती...अब वो कांग्रेस नहीं रही जो कार्यकर्ताओं का सम्मान करते हुए टिकिट वितरण करते हुए पार्टी प्रत्याक्षीयों का जीतने के लिए मेहनत करते थे। आमेट ही नही सभी जगह कांग्रेस मोदी लहर की चपेट में आने से हारी। इसलिये हताश होने की जरूरत नही है। आगामी नगर पालिका व पंचायत चुनाव में कांग्रेस बेहतर प्रर्दशन करेगी। अब यह तो वक़्त बताएगा कि आगामी नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस बेहतर प्रर्दशन करेगी या उसे कहीं ढूंढना पडेगा। फिलहाल लोकसभा चुनाव के परिणामो से आमेट नगरपालिका के सभी 20 वार्डो से भाजपा को भारी बढ़त मिली है। और इस बार पालिकाध्यक्ष का चुनाव भी सीधे होने जा रहा है। इसलिए कांग्रेस के लिए पहली चुनौती रहेगी 3370 हजार वोटों की बढ़त को कवर करना। क्योंकि कांग्रेस को आमेट शहर से मात्र 2620 वोट ही मिले। जबकि भाजपा को 5998 से अधिक वोट। आश्चर्य की बात तो यह है कि इतनी बड़ी करारी शिकस्त के बावजूद भी किसी भी कांग्रेसी नेता ने इसकी जिम्मेदारी नही ली और ना ही नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देने की घोषणा की। जबकि राज्य में काफी जगह कांग्रेसी नेता हार की जिम्मेदारी लेते हुए नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे रहे है। जबकि इस बार तो लोकसभा चुनावों में आमेट सहित विधानसभा क्षेत्र में अब तक कि सबसे बड़ी करारी हार हुई है। जिसें मतदाताओं को अपनी जेब में समझने वाले छूट भैया नेता सिर्फ इसे मोदी लहर मानकर इतिश्री कर रहे है। जबकि अब कांग्रेस को इतनी बड़ी हार से सबक लेकर विगत कुछ माह में जो गलतियां की है। उसे पाटीं की जाजम पर एक साथ बैठकर सुधार करना चाहिये ओर कांग्रेस के जो वरिष्ठ नेता अपनी अपनी ढपलीयां अलग-अलग बजा रहे, जो हाईकमान के समक्ष अपने आप को राजनीति का हीरो बन रहे उन नेताओं को सबक लेना चाहिए। अन्यथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का घमंड. तानाशाही रवैया द्वेषता पूर्वक की गई कार्यवाही का खामियाजा फिर से नगर पालिका चुनावो में भुगतना पड़ जाए तो कोई बडी अतिश्योक्ति नही होगी।

paliwalwani

● आमेट-कुभंलगढ का नेतृत्व योग्य नेता के हाथों में सौंपना चाहिए

आमेट-कुभंलगढ विधानसभा क्षेत्र के अंधिकाश जमीनी कार्यकत्ताओ का यह मानना है कि हाईकमान को भी यह चाहिए की आमेट-कुभंलगढ का नेतृत्व ऐसे योग्य नेता के हाथों में सौंपना चाहिए। जो पाटीं के सभी वर्ग के वरिष्ठ व कनिष्ठ कार्यकर्त्ताओ को एक साथ एक जाजम पर बैठाकर चले, राजनेतिक पंडित हो, कार्यकत्ताओ की कार्य क्षमता की पहचानने की क्षमता हो, और वह सेल्फी व अखबारी नेता नहीं हो, अगर हाईकमान आमेट-कुंभलगढ क्षेत्र का नेतृत्व जयपुर में एसी रूम मे बैठकर थोपता है। तो वह दिन अब दूर नही की पाटीं को आगामी दिनों में अपने कार्यकर्त्ताओ को चिराग लेकर ढूंढना पडेगा। सुधार जाओ...वरना जो वोट मिल रहे है, वो वोट तुम्हारे नहीं है, पार्टी के वफादार वोटर के वोट है। तुम्हारे बल पर वोट चाहिए तो सरकार की नीति हर वर्ग के पास पहुंचने का काम किजिए...जैसा संघ करता है, उसी तर्ज पर कांग्रेस के आला नेताओं को करना चाहिए ओर कुछ सिखना भी चाहिए...वरना अगली बार वोटर ना वोट डालने जाएगा ओर नहीं तुम चुनाव लड़ पाओगे...समय है, सुधार जाओं...वरना मीट जाओगें...!

paliwalwani
● पालीवाल वाणी ब्यूरो-Kishan Paliwal...✍
🔹 Whatsapp पर हमारी खबरें पाने के लिए हमारे मोबाइल नंबर 9039752406 को सेव करके हमें व्हाट्सएप पर Update paliwalwani news नाम/पता/गांव/मोबाईल नंबर/ लिखकर भेजें...
🔹 Paliwalwani News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
www.fb.com/paliwalwani
www.twitter.com/paliwalwani
Sunil Paliwal-Indore M.P.
Email- paliwalwani2@gmail.com
09977952406-09827052406-Whatsapp no- 09039752406
▪ एक पेड़...एक बेटी...बचाने का संकल्प लिजिए...
▪ नई सोच... नई शुरूआत... पालीवाल वाणी के साथ...